यहाँ सर्च करे

Tags:

अलीगढ़ एसएसपी के एनकाउंटर पर उठे सवाल, डीजीपी ने एसएसपी अजय साहनी को किया लखनऊ तलब


उत्तर प्रदेश पुलिस और योगी सरकार ने सत्ता में आते ही प्रदेश से अपराध और अपराधियों को खत्म करने की कसम खाते हुए 'ऑपरेशन क्लीन' की शुरुआत की थी। ‘ऑपरेशन क्लीन’ के तहत पुलिस लगातार अपराधियों को गिरफ्तार कर उनको जेल भेज रही है।

अलीगढ़ः उत्तर प्रदेश पुलिस और योगी सरकार ने सत्ता में आते ही प्रदेश से अपराध और अपराधियों को खत्म करने की कसम खाते हुए ‘ऑपरेशन क्लीन’ की शुरुआत की थी। इसके तहत पुलिस लगातार अपराधियों को गिरफ्तार कर उनको जेल भी भेज रही है। अगर हम पिछले 24 घंटों की बात करें तो प्रदेश की ग्रेटर नोएडा और संभल पुलिस ने मुठभेड़ में तीन बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं इन दिनों अलीगढ़ का दोहरा एनकाउंटर भी सुर्खियों में है। दरअसल 20 सितंबर को अलीगढ़ पुलिस ने दो बदमाश नौसाद और मुस्तकीम का एनकाउंटर किया था, जिसके बाद से ही ये दोहरे एनकाउंटर मामला गर्माया हुआ है।

अजय साहनी पर सख्त कार्रवाई

सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस मामले में सख्त रुप अपनाते हुए यूपी के डीजीपी ओपी सिंह से इस एनकाउंटर के बारे में कई सवाल पूछे थे और जांच करने के निर्देश दिए थे। इस दोहरे एनकाउंटर मामले में डीजीपी ओपी सिंह ने अलीगढ़ के एसएसपी अजय साहनी को अलीगढ़ से लखनऊ तलब कर दिया है। डीजीपी ने एनकाउंटर से जुड़े सभी साक्ष्य और सबूतों को देखते हुए ये निर्णय लिया है। बता दें कि ये कोई पहली बार नहीं है जब एसएसपी अजय साहनी पर सवाल उठे हों, इससे पहले भी कई मामलों में एसएसपी सवालों के घेरे में आ चुके हैं।

परिजनों का अलीगढ़ पुलिस पर आरोप

एनकाउंटर में मारे गए बदमाशों के परिजनों ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगाया है। नौशाद की मां ने कहा कि नौशाद कभी किसी अपराध में जेल नहीं गया है। पुलिस नौसाद और मुस्तकीम को 16 सितंबर (रविवार) को घर से उठा ले गई थी और फिर उसके चार दिन बाद 20 सितंबर (गुरुवार) को उनका एनकाउंटर कर दिया है।

वहीं इस मामले में सियायत भी शुरु हो गई है। इस मामले में कांग्रेस ने बीजेपी से जांच करने की मांग की है। कांग्रेस के पूर्व सांसद चौधरी विजेंद्र ने कहा है कि अगर निर्दोष लोगों का एनकाउंटर हो रहा है तो ये एक बड़ा अपराध है। उनका कहना था कि इस मामले में सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।


Tags::