Type to search

CBIvsCBI:घमासान के बीच अधिकारियों को तनाव मुक्त कर जीना सिखाएंगे श्री श्री रविशंकर


देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई में पिछले कुछ दिनों से क्या बवाल मचा हुआ है ये आप सब देख ही रहे है। एक होते हुए भी एक-दूसरे पर आरोप लगाते दिख रहे है। लेकिन अब आंतरिक कलह से जूझ रही एजेंसी को अब ज्ञान चाहिए। जी हां बता दें कि इस कलह को निकलने के लिए, सब तनाव दूर करने के लिए एजेंसी अब श्री श्री रविशंकर की द्वार पहुंच गई है। आपको बता दें कि सीबीआई ऑफिस में श्री श्री रविशंकर की संस्था “आर्ट ऑफ लिविंग” एक वर्कशॉप आयोजित कर रही है जिसके अंतर्गत सीबीआई के अधिकारियों को जीवन को जीने की कला सिखाई जाएगी।

श्री श्री रविशंकर वीडियो कॉन्फेंसिंग के जरिए सीबीआई अधिकारियों को संबोधित करेंगे।

खबर के मुताबिक ये वर्कशॉप तीन दिनों तक चलेगी जिसमें 150 से ज्यादा अधिकारी शामिल होंगे। जानकारी के मुताबिक श्री श्री खुद वीडियो कॉन्फेंसिंग के जरिए सीबीआई अधिकारियों को संबोधित करेंगे। इस संबोधन के पीछे वजह सीबीआई में शुरू हुई नकारात्मक सोच बताई जा रही है।

दरहसल देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी खुद ही जांच घेरे में हैं और इसकी वजह पिछले दिनों सीबीआई में नंबर एक और नंबर दो के अधिकारियों के बीच भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर छिड़ी जंग। जहां दोनों ही बड़े अधिकारियों ने एक दूसरे पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं।

ये मामला जब ज्यादा नजरों में आया जब केंद्र सरकार ने आलोक वर्मा को 24 अक्टूबर की आधी रात को नाटकीय अंदाज में छुट्टी पर भेज दिया था। जहां फिर 26 अक्टूबर को सुप्रीम कोर्ट ने मामले की सुनवाई करते हुए वर्मा के खिलाफ लगे आरोपों की जांच के लिए रिटायर्ड जज की निगरानी में सीवीसी को जांच पूरी करने के निर्देश दिए।

“आर्ट ऑफ लिविंग” पर कांग्रेस का कटाक्ष

कांग्रेस ने “आर्ट ऑफ लिविंग” की बजाय “आर्ट ऑफ इन्वेस्टिगेशन” सिखाने की सलाह दी। कांग्रेस प्रवक्ता प‍वन खेड़ा ने सीबीआई में होनी वाली इस वर्कशॉप तंज कसते हुए कहा कि” सीबीआई अफसरों को “आर्ट ऑफ इन्वेस्टिगेशन” सिखाया जाना चाहिए। सीबीआई के हेडक्वार्टर में आर्ट ऑफ लिविंग का क्या काम।


Tags::

You Might also Like