यहाँ सर्च करे

क्या आपको पता हैं एक स्वस्थ मनुष्य को दिन में कितनी बार खुजली होती है?



आज हम आपको खुजली के पीछे के विज्ञान के बारे में ऐसे रोचक तथ्यों के बारे में बताएंगे, जिससे ये समझना आसान होगा कि आख़िर खुजली होती क्यों है?

नई दिल्ली: आज हम आपको खुजली के पीछे के विज्ञान के बारे में ऐसे रोचक तथ्यों के बारे में बताएंगे, जिससे ये समझना आसान होगा कि आख़िर खुजली होती क्यों है?

दरअसल आमतौर पर एक शख़्स को दिन भर में कम से कम 97 बार खुजली होती है. लिवरपुल यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर फ्रांसिस मैक्लोन ने मीडिया को बताया कि , ”मच्छर, कीड़े-मकोड़े और पौधे इंसान की त्वचा पर एक ‘टॉक्सिन’ छोड़ते हैं. इस टॉक्सिन के जवाब में शरीर के इम्यून सिस्टम से हिस्टैमिन का स्राव होता है. ऐसा होने से तंत्रिका से मतिष्क को खुजली का सिग्नल मिलता है और हम खुजली करने लगते हैं.’

क्या खुजली के लिए अलग तंत्रिका और टिशू ज़िम्मेदार-

1997 में खुजली के इस विज्ञान की दिशा में एक बड़ी खोज हुई. इससे पहले माना जाता था कि चोट लगने पर दर्द और त्वचा पर होने वाली खुजली दोनों एक ही तरह के पैटर्न से होती है. लेकिन 1997 में ये सामने आया कि खुजली के विज्ञान में अलग तंत्रिका और ऊतक ज़िम्मेदार होते हैं.

खुजली करने से क्यों मिलता है आराम

खुजली करके हमें आराम मिलता है और इस अनुभूति के लिए हमारे मतिष्क से सेरोटोनीन का स्राव होता है.

सबसे ज़्यादा टखनों पर खुजली करके आराम मिलता है. हालांकि खुजली करके आराम मिलता क्यों है? इसके पीछे क्या विज्ञान है? इसका जवाब अब तक वैज्ञानिक खोजने में असफल रहे हैं.

खुजली के साथ एक खास दिलचस्प बात ये भी है कि आप जितना ज़्यादा खुजलाएंगे आपको उतनी ही ज्यादा खुजली बढ़ती जाएगी.


Tags::