यहाँ सर्च करे

स्वास्थ्य पर खर्चे को लेकर सूची जारी 195 देशों की लिस्ट में भारत 158वें पायदान पर: सर्वे


सर्वे ने सब आंकड़ो पर पानी फेर दिया है बता दें सर्वे में भारत को स्वास्थ्य सेवाओं और शिक्षा पर खर्च करने वाले दुनिया के 195 देशों की सूची में 158वां पायदान मिला है

नई दिल्ली: पीएम मोदी बेशक कई योजना देश में चालू कर रहे हो या कर चुके हो मगर स्वास्थ्य पर खर्चे की बात करे तो अभी भारत बहुत पीछे है। अभी हाल ही में दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना ‘आयुष्मान भारत’ की शुरुआत नरेंद्र मोदी ने की है। बात अगर सर्वे में सुची की करी जाए तो भारत इसमें काफी पीछे है दावे चाहे जितने हो लेकिन इस सर्वे ने सब आंकड़ो पर पानी फेर दिया है बता दें सर्वे में भारत को स्वास्थ्य सेवाओं और शिक्षा पर खर्च करने वाले दुनिया के 195 देशों की सूची में 158वां पायदान मिला है।

हैरानी की बात ये की हमारा भारत इस सुची में सूडान, अजरबेजान, चीन और बोस्निया हर्जेगोविना जैसे देशों से भी नीचे है। सर्वे में स्वास्थ्य और शिक्षा दोनों पर सबसे ज्यादा खर्च करने वाला देश फिनलैंड है।

एक अन्य रिपोर्ट के मुताबिक साल 1990 में भारत 158वें पायदान पर था, जबकि 2016 में इसमें कुछ सुधार आया है, जिसके बाद इस सूची में भारत 158वें पायदान पर आ गया है।

वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट

अभी हाल ही में स्वास्थ्य पर खर्च करने वाले देशों के बारे में वर्ल्ड बैंक ने भी एक ऐसी ही रिपोर्ट जारी की थी । जिसमें भारत का स्थान 195 देशों की सूची में 145वां था।

इस रिपोर्ट में बताया गया कि भारत में हर साल स्वास्थ्य सेवाओं पर होने वाले खर्च की वजह से पांच करोड़ लोग गरीबी के शिकार हो जाते हैं। बता दें भारत में स्वास्थ्य सेवाओं पर जीडीपी का महज 1.25 फीसदी ही खर्च होता है, जिसकी वजह से यहां लोगों पर स्वास्थ्य के खर्चों का भार बढ़ जाता है, जिससे वो धीरे-धीरे कर्ज के बोझ तले दबने लगते हैं।

भारत के लिए बेहत ही शर्मनाक हो सकती है ये रिपोर्ट क्योंकि इसमें पाकिस्तान, चीन और बांग्लादेश को भारत से बेहतर बताया गया है। जानकारी के लिहाज से दक्षिण एशियाई देशों में मालदीव स्वास्थ्य सेवाओं पर जीडीपी का 13.7 फीसदी, अफगानिस्तान 8.2 फीसदी और नेपाल 5.8 फीसदी खर्च करते हैं। वहीं, भूटान अपनी जीडीपी का 2.5 फीसदी और श्रीलंका 1.6 फीसदी सेहत पर खर्च करते हैं।


Tags::