Type to search

आठ साल में पहली बार घट गई अमेरिका जाने वाले भारतीयों की संख्या


भारतीयों के लिए अमेरिका एक पसंदीदा देश रहा है. हर साल लाखों की संख्या में भारतीय अमेरिका का रुख करते हैं. लेकिन साल 2017 में अमेरिका जाने वाले भारतीयों की संख्या घटी है.

पिछले आठ साल में पहली बार ऐसा हुआ है कि अमेरिका की यात्रा पर जाने वाले भारतीयों की संख्या घटी है. अमेरिका के वाणिज्य विभाग की एक रिपोर्ट में यह बात सामने आई है.

रिपोर्ट के अनुसार साल 2017 में अमेरिका जाने वाले भारतीयों की संख्या 11.4 लाख थी, जो इसके पिछले साल से 5 फीसदी कम है. साल 2016 में करीब 11.72 लाख भारतीय अमेरिका गए थे.

अमेरिका के वाणिज्य विभाग के नेशनल ट्रैवल ऐंड ट्रेड ऑफिस (NTTO) द्वारा हर देश से अमेरिका आने वाले लोगों के आंकड़े जारी किए जाते हैं. टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक साल 2009 में कुल 5.5 लाख भारतीय अमेरिका की यात्रा पर गए थे. तब इसमें इसके पिछले साल के मुकाबले 8 फीसदी की गिरावट आई थी. यानी इसके पहले अमेरिका जाने वाले भारतीयों की संख्या में गिरावट करीब आठ साल पहले देखा गई थी.

असल में वह मंदी का दौर था जिसमें दुनिया भर के यात्री, कॉरपोरेट जगत के लोग, कारोबारी और अन्य लोग अपनी यात्राओं में कटौती कर रहे थे. लेकिन इसके बाद से लगातार अमेरिका जाने वाले भारतीयों की संख्या बढ़ ही रही थी. NTTO का कहना है कि यह तात्कालिक गिरावट है और साल 2018 से 2022 के बीच भारतीय यात्रियों की संख्या में इजाफा होगा.

ट्रैवल इंडस्ट्री से जुड़े लोगों का कहना है कि भारत से अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर निकलने वाले लोगों की संख्या हर साल 10 से 12 फीसदी बढ़ रही है. हाल के वर्षों में यह धारणा बनी है कि अमेरिका जाना थोड़ा कठिन हो गया है, क्योंकि कई देशों के लोगों के वहां जाने पर कई तरह के प्रतिबंध लगाए गए हैं. जानकारों का कहना है कि यह गलत धारणा है और अमेरिका हमेशा ही सही यात्रियों के लिए अपने दरवाजे खोलकर रखता है.

गौरतलब है कि अमेरिका आमतौर पर ज्यादातर भारतीयों को 10 से 11 हजार की फीस लेकर 10 साल के लिए टूरिटस्ट कैटेगिरी में मल्ट‍िपल एंट्री वीजा देता है. जानकारों का कहना है कि इसकी तुलना में यूरोपीय देशों का वीजा चार्ज ज्यादा है.

अमेरिका में हर साल करीब 7.7 करोड़ इंटरनेशल यात्री आते हैं. साल 2017 में इससे अमेरिका को रेकॉर्ड 251.4 अरब डॉलर की कमाई हुई थी.


Tags::

You Might also Like