यहाँ सर्च करे

Tags:

राजधानी दिल्ली बनी मौत का शहर, जहरीले शहर पर क्या कहती है WHO की रिपोर्ट? देखें


जैसे-जैसे देश में हर साल दिवाली नजदीक आती है वैसे-वैसे दिल्ली में काली चादर लिपट जाती हैं। दिल्ली में दो दिन की राहत के बाद आज यानी सोमवार को दिल्ली में एक बार फिर स्मॉग लोगों के लिए परेशानी का सबब बन गया है। बता दें सुबह से ही दिल्ली में काला कोहरा नजर आ रहा है तो वहीं लोगों को ये पहचानने में भी काफी दिक्कत हो रही है कि आखिर ये स्मॉग है या फॉग? लेकिन हम आपको ये साफ कर दे की ये कोई फॉग नहीं है बल्कि ये स्मॉग है।

इस स्मॉग से कई लोगों को सांस लेने में दिक्कत की शिकायत सामने आई है। वहीं कुछ के आंखों में जलन होने की शिकायत सामने आई है। लोधी रोड इलाके में पीएम 2.5 और पीएम 10 का प्रतिशत खराब स्तर पर दर्ज किया गया है।

जहां कश्मीर, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के कई इलाकों में हुई बर्फबारी के चलते राजधानी में मौसम ठंडा हो गया है। हालांकि हवा की रफ्तार कम होने की वजह से प्रदूषण का स्तर काफी बढ़ा हुआ है। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) के मुताबिक, भारत में हर साल स्मॉग से 10 लाख से अधिक लोगों की मौत हो जाती है और दुनिया के किसी भी बड़े शहर की तुलना में दिल्ली की हवा बेहद जहरीली है।




बता दें हर साल नवंबर में अस्पतालों में सांस लेने में दिक्कत की शिकायत लेकर कई मरीज पहुंचते हैं। जहां सर गंगाराम अस्पताल में लंग की सर्जरी करा चुके एक मरीज के सर्वाइवल पर चिंता जाहिर करते हुए डॉक्टर श्रीनिवास के गोपीनाथ कहते हैं कि दिल्ली की हवा में सांस लेना उसके सजा-ए-मौत के समान है।

सोमवार को होगा बुरा हाल, थी चेतावनी

सिस्टम ऑफ एयर क्वालिटी फारकास्टिंग एंड रिसर्च के अधिकारियों ने पहले ही चेतावनी दे दी थी कि सोमवार को हवा की गुणवत्ता बहुत खराब स्तर तक जा सकती है। एक अधिकारी ने कहा, “एक्यूआई सोमवार को ‘बहुत खराब’ के निचले स्तर पर पहुंचने की आशंका है क्योंकि वायुमंडल कुल मिलाकर साफ है.”

भारतीय उष्णदेशीय मौसम विज्ञान संस्थान ने कहा कि संस्थान ने कहा, ‘‘अगर भारत के उत्तरपश्चिम क्षेत्र में रविवार और सोमवार को बड़ी मात्रा में पराली जलाना जारी रहता है तो दिल्ली के ऊपर इसका असर आने की बहुत आशंका है और एक्यूआई ‘बहुत खराब’ श्रेणी के ऊपरी स्तर पर पहुंच सकता है.’’


Tags::