यहाँ सर्च करे

#BdaySpecial: जानिए गौतम गंभीर की वो बातें जो शायद आप पहले ना जानते हो


14 अक्टूबर 1981 को दिल्ली में जन्में गौतम गंभीर को बचपन से ही क्रिकेट खेलने का शौक था।

इसके लिए उन्होंने बकायदा ट्रेनिंग ली और अपने शानदार खेल के बूते भारतीय टीम में जगह बनाई। लगभग 10 वर्षों तक वह भारतीय टीम के ओपनर बल्लेबाज रहे। 2011 विश्वकप में भारत को जीत दिलाने में गौतम गंभीर ने अहम भूमिका निभाई थी। श्रीलंका के खिलाफ फाइनल मैच में गंभीर ने शानदार 97 रन की पारी खेली थी। लेकिन इंडिया को विश्वकप दिलाने के बाद गंभीर का करियर ढलान पर आ गया, इसके बाद वह 2 साल और क्रिकेट खेल पाए जिसमें भी कई बार टीम से अंदर-बाहर हुए।

टीम में अंदर-बाहर:

37 साल के हो चुके गंभीर ने आखिरी T-20 इंटरनेशनल मैच 2012 में पाकिस्तान के खिलाफ अहमदाबाद में और वनडे मैच 2013 में इंग्लैंड के खिलाफ धर्मशाला में खेला था। उस मैच में वह सिर्फ 24 रन बना पाए थे। वनडे टीम में दोबारा जगह नहीं मिलने के बाद गंभीर ने अपना पूरा ध्यान टेस्ट मैचों में लगाया। 2012 में टेस्ट टीम से बाहर होने के ठीक दो साल बाद 2014 में गंभीर ने इंडियन टीम में वापसी की। मगर उन्हें सिर्फ दो टेस्ट मैच खेलने को मिले जिसमें गंभीर के बल्ले से कुल 25 रन निकले। इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए इन टेस्ट मैचों में खराब प्रदर्शन करने पर गंभीर को फिर से टीम से बाहर होना पड़ा। दो साल वह फिर टीम से गायब रहे और 2016 में वापसी की। इस बार वह सिर्फ 1 टेस्ट खेल पाए और तब से भारतीय टीम के टेस्ट स्क्वॉयड से बाहर हैं।

अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में बनाए 10 हजार से ज्यादा रन:

गौतम गंभीर ने अंतराष्ट्रीय करियर में कुल 10,324 रन बनाए। उन्होंने 58 टेस्ट मैचों में 41.95 की औसत से कुल 4154 रन अपने नाम किए। इस दौरान उनके बल्ले से 9 शतक और 22 अर्धशतक निकले। वहीं उनके उच्चतम स्कोर की बात करें तो गंभीर ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 206 रन बनाए थे। वनडे मैचों पर नजर डालें, तो गंभीर ने 147 मैचों में 39.68 की औसत से 5238 रन बनाए, जिसमें 11 शतक और 34 अर्धशतक शामिल हैं। वहीं T-20 इंटरनेशनल में 37 मैच खेलकर 932 रन अपने नाम किए, इसमें 7 अर्धशतक भी बने।

IPL में गौतम दो टीमों कोलकाता नाइट राइडर्स और दिल्ली डेयरडेविल्स से खेलते नजर आए। 10 साल के IPL के इतिहास में गंभीर ने कुल 251 मैच खेले जिसमें उन्होंने 28.96 की औसत से 6402 रन बनाए जिसमें 53 अर्धशतक शामिल हैं।

बता दें गौतम गंभीर ने क्रिकेट से संन्यास भले न लिया हो मगर वह अब खेल के इतर अन्य बातों को लेकर चर्चा में रहते हैं। गौतम गंभीर अब लोगों की सेवा में जुटे हैं। गंभीर आशा नाम का एक NGO का संचालन करते हैं। जिसमें वह रोजाना लोगों को फ्री में भोजन करवाते हैं। इससे पहले भी गंभीर कई नेक कामों में आगे खड़े नजर आए हैं। यही नहीं अगस्त 2017 में कश्मीर में एक आतंकी मुठभेड़ में शहीद हुए जम्मू-कश्मीर पुलिस के सब इन्सपेक्टर अब्दुल राशिद की 5 वर्षीय बेटी जोहरा की एजुकेशन का पूरा खर्च गौतम गंभीर उठाते हैं। गौतम ने उस समय ट्वीट कर ये जानकारी दी थी। गंभीर ने शहीद की बेटी जोहरा से कहा- अपने आंसुओं को जमीन पर मत गिरने दो, तुम्हारी पढ़ाई का पूरा खर्च मैं उठाउंगा। टीम से बाहर होने के बाद गौतम चैरिटी करने में लगे हैं। जब-जब कोई मौका आया है, वो चैरिटी में पीछे नहीं रहे।


Tags::