यहाँ सर्च करे

Tags:

अगर आप करते हैं ये वाला आधार कार्ड इस्तेमाल तो हो जाए सावधान,क्योंकि…


ऐसा करने से आपके आधार का क्यूआर कोड काम करना बंद कर सकता है या फिर पर्सनल जानकारी चोरी हो सकती है.

अगर आपने अपने आधार कार्ड का लैमिनेशन कराया है या फिर उसे प्लास्टिक कार्ड के तौर पर यूज़ कर रहे है तो सचेत हो जाए। ऐसा करने से आपको बड़ा नुकसान हो सकता है. यूआईडीएआई ने इसको लेकर चेतावनी भी जारी की है। यूआईडीएआई की ओर से जारी चेतावनी में कहा गया है कि। ऐसा करने से आपके आधार का क्यूआर कोड काम करना बंद कर सकता है या फिर पर्सनल जानकारी चोरी हो सकती है।

यूआईडीएआई का साफ कहना है कि ऐसा करने पर आपकी मंजूरी के बिना ही आपकी पर्सनल जानकारी किसी और के पास पहुंच सकती हैं। UIDAI ने कहा कि आधार का कोई एक हिस्सा या मोबाइल आधार पूरी तरह से वैलिड है।

भूलकर भी न करें स्मार्ट कार्ड का इस्तेमाल: आधार स्मार्ट कार्ड्स की प्रिटिंग पर 50 रुपये से लेकर 300 रुपये तक का खर्च आता है, जो पूरी तरह से गैर-जरूरी है। UIDAI की ओर से जारी बयान में कहा गया, ‘प्लास्टिक या पीवीसी आधार स्मार्ट कार्ड्स अक्सर गैर-जरूरी होते हैं। इसकी वजह यह होती है कि क्विक रेस्पॉन्स कोड आमतौर पर काम करना बंद कर देता है। इस तरह की गैर-अधिकृत प्रिंटिंग से क्यूआर कोड काम करना बंद कर सकता है।’

आपको हो सकता है बड़ा नुकसान: UIDAI के CEO अजय भूषण पांडे ने कहा कि प्लास्टिक का आधार स्मार्ट कार्ड पूरी तरह से गैर-जरूरी और बेकार है। सामान्य कागज पर डाउनलोड किया गया आधार कार्ड या फिर मोबाइल आधार कार्ड पूरी तरह से सुरक्षित है।

बिना अनुमति आधार कार्ड की जानकारी लेना अपराध: भूषण पांडे ने कहा, ‘स्मार्ट या प्लास्टिक आधार कार्ड का कोई कॉन्सेप्ट ही नहीं है।’ यही नहीं पांडे ने लोगों को हिदायत देते हुए कहा कि किसी भी गैर-अधिकृत व्यक्ति से आधार नंबर शेयर नहीं करना चाहिए। यही नहीं UIDAI ने आधार कार्ड्स की डिटेल जुटाने वाली अनाधिकृत एजेंसियों को भी चेतावनी देते हुए कहा कि आधार कार्ड की जानकारी हासिल करना या फिर उनकी अनाधिकृत प्रिटिंग करना दंडनीय अपराध है। ऐसा करने पर कानून के तहत कैद भी हो सकती है।

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक को पढ़ें:

https://uidai.gov.in/images/news/press_release_for_discouraging_PVC_Cards_29012017.pdf


Tags::