Type to search

नयी खबर
मनोहर पर्रिकर की वो आखिरी इच्छा जो पूरी नहीं हो सकी…प्रियंका गांधी ने बताया- ‘इस वजह से उनको घर से निकलकर राजनीति में आना पड़ा’मायावती और अखिलेश के ‘वार’ के बाद प्रियंका गांधी की दो टूक…जब पर्रिकर के एक फैसले ने बचाए थे देश के 49,300 करोड़ रुपयेमायावती के बाद अब अखिलेश यादव का कांग्रेस पर ‘ट्वीट वार’प्रियंका गांधी का पीएम मोदी पर तीखा हमला, चौकीदार तो अमीरों के होते हैंसपा-बसपा को कांग्रेस के ‘रिटर्न गिफ्ट’ पर मायावती की खरी-खरीकेंद्रीय मंत्री महेश शर्मा ने प्रियंका गांधी को लेकर दिया विवादित बयान,देखें वीडियोतो इस वजह से अखिलेश ने अपर्णा को नहीं उतारा चुनावी मैदान में…गांधी खानदान में इंदिरा गांधी के बाद प्रियंका गांधी पहुंची यहाँ, जानेजानें कांग्रेस के सपा-बसपा-RLD गठबंधन के लिए 7 सीट छोड़ने के क्या हैं मायने!मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद कांग्रेस ने सरकार बनाने के लिए ठोका दावा
रोचक तथ्य

5 मार्च को देश और दुनिया में दर्ज हुआ ये इतिहास,जानें

Share
5 मार्च को देश और दुनिया में दर्ज हुआ ये इतिहास,जानें

इतिहास के पन्नों में 05 मार्च का दिन बेहद महत्वपूर्ण है। 1931 में इसी दिन बापू(गाँधी) और तत्कालीन वाइसरॉय लॉर्ड इरविन के बीच एक अहम समझौता हुआ, जिसे इरविन पैक्ट कहा जाता है।

साल 1929 में वाइसरॉय लॉर्ड इरविन ने भारत को डोमिनियन स्टेटस देने की घोषणा की थी, हालांकि ये क्या होगा इसके बारे में कोई ठोस रूपरेखा नहीं बनी थी। 1931 में गोल मेज सम्मेलन के दौरान भारत के संविधान के बारे में चर्चा होनी थी।

गांधी और इरविन के बीच इस समझौते से पहले आठ बैठकें हुई। साल 1931 में 5 मार्च के दिन दोनों ने एक समझौते पर दस्तखत किए। इसमें तय किया गया कि भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस सविनय अवज्ञा आंदोलन खत्म करेगी और लंदन में होने वाले गोलमेज सम्मेलन में हिस्सा लेगी। इसमें यह भी तय किया गया कि ब्रिटिश सरकार इंडियन नेशनल कांग्रेस की गतिविधियों पर रोक लगाने वाले सभी आदेश वापस ले लेगी। हिंसा के अलावा सभी अपराधों के मामले में मुकदमे वापस ले लिए जाएंगे।

इसके अलावा तय हुआ कि नमक कर हटा दिया जाए, ताकि भारतीय उसे कानूनी रूप से बना कर बेच सकें और निजी इस्तेमाल भी कर सकें।

ब्रिटिश राज को समाप्त करने की मांग करने वाली पार्टी के साथ किए गए समझौते पर भारत में मौजूद ब्रिटिश प्रशासन और इंग्लैंड में प्रशासन ने काफी नाराजगी जताई और इसे अपने ही पैर पर कुल्हाड़ी मारने जैसा बताया। लेकिन ब्रिटिश सरकार ने सभी मांगें मान ली क्योंकि उसे यह समझ में आ गया था कि कांग्रेस और गांधी के बिना गोलमेज सम्मेलन सफल नहीं हो सकेगा।

ये घटनाएं भी दर्ज हैं 5 मार्च को,जानें

साल 1968 में आज ही के दिन मार्टिन लूथर किंग की हत्या की गई थी।

साल 1983 में ऑस्ट्रेलिया में लेबर पार्टी के नेता बाब हाक प्रधानमंत्री बने।

साल 1997 में भारत तथा 13 अन्य देशों ने इंडियन ओशन रिम एसोसियेशन के गठन की घोषणा की।

फिल्म अभिनेता सुनील दत्त ने कोलंबो से अपने 17 सदस्यीय दल के साथ दक्षिण एशिया की 13 हजार किलोमीटर लम्बी सद्भावना यात्रा का शुभारम्भ किया।

साल 2001 में कोलंबिया के राष्ट्रपति परुत्राना चार दिवसीय यात्रा पर भारत आए, मक्का में ईद के दौरान भगदड़ में 36 यात्री मरे।

साल 2003 में अलकायदा का शीर्ष आतंकवादी मुस्तफा अहमद अल-हवसावी रावलपिंडी में गिरफ्तार।

साल 2006 में पाकिस्तान में अलकायदा और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ में 100 लोग मारे गए।

साल 2007 में अर्जेन्टीना ने भारत द्वारा अदालती कार्रवाई के लिए क्वात्रोची के प्रत्यर्पण दस्तावेज स्वीकृत किए।

साल 2008 में महाराष्ट्र के राज्यपाल एस.एम. कृष्णा ने अपने पद से इस्तीफा दिया।

भारत ने समुद्र से जमीन पर हमला करने वाले ‘ब्रह्मोस’ मिसाइल का सफल परीक्षण किया।

साल 2009 में भारतीय उद्योगपति विजय माल्या ने 18 लाख रुपये में बापू की विरासत को खरीदा।

इफ्को (इंडियन फार्मा फर्टिलाइजर को-ओपरेटिव लिमिटेड)1 करोड़ टन उर्वरक की वार्षिक बिक्री करने वाली विश्व की पहली कम्पनी बनी।

बिजनेस मैग्जीन फोर्ब्स ने 48 परोपकारी दिग्गजों की लिस्ट में टेलिकॉम किंग सुनील मित्तल और प्रवासी व्यापारी अनिल अग्रवाल समेत चार भारतीयों के नाम शामिल किए।

साल 1913 में भारतीय गायिका गंगूबाई हंगल का जन्म हुआ था।

साल 1916 में भारतीय राजनीतिज्ञ बीजू पटनायक का जन्म हुआ था।

Tags:

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

%d bloggers like this: