अखिलेश के बंगले पर छिड़ा दंगल, किसने की तोड़-फोड़: राज्यपाल का सीएम को पत्र

अखिलेश के बंगले में तोड़-फोड़ का मामला गरमाया, राम नाइक का सीएम को पत्र

लखनऊ: पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के खाली किए गए बंगले में हुई तोड़फोड़ की घटना के बाद उत्तरप्रदेश में एक बड़ा राजनीतिक संग्राम छिड़ता दिख रहा है। इस पूरे मामले पर यूपी के राजयपाल राम नाइक ने सीएम योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा है। राज्यपाल ने इस मामले पर सीएम से उचित कार्रवाई की मांग की है।

क्या बोले राज्यपाल ?

यूपी के राजयपाल राम नाइक ने लिखा कि 4 विक्रमादित्य मार्ग पर आवंटित आवास को खाली किए जाने से पहले उसमें की गई तोड़फोड़ का मामला मीडिया और जनमानस में चर्चा का विषय बना हुआ है। यह एक अनुचित और गंभीर मामला है। ‘उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्रियों को आवंटित किए गए शासकीय आवास राज्य संपत्ति के कोटे में आते हैं, जिनका निर्माण और रख-रखाव सामान्य नागरिकों द्वारा दिए जानेवाले विभिन्न प्रकार के टैक्स से होता है। राज्य संपत्ति को क्षति पहुंचाए जाने के खिलाफ राज्य सरकार द्वारा कानून के अनुसार, समुचित कार्रवाई की जानी चाहिए।’

Also Read: अखिलेश यादव के आलिशान बंगले में किसने की तोड़-फोड़: क्या बोले अखिलेश !

सख्त हुआ राज्य संपत्ति विभाग

आपको बता दें इस मामले के बाद राज्य संपत्ति विभाग सभी पूर्व मुख्यमंत्रियों के बंगले की जांच करवाएगा। विभाग ने इन बंगलों के सामानों की सूची बनानी शुरू कर दी है। इनका मिलान सरकारी रिकॉर्ड से किया जाएगा। गड़बड़ी पाए जाने के बाद सभी आवंटियों को नोटिस भेजा जाएगा। दरअसल, अखिलेश यादव के सरकारी बंगले में तोड़फोड़ के बाद विभाग ने अन्य बंगलों की भी जांच करवाने के निर्देश दिए हैं। इनमें मुलायम सिंह, राजनाथ सिंह, कल्याण सिंह और मायावती के बंगले शामिल हैं।

Also Read: सुप्रीम कोर्ट की मुहर के बाद छूटा इन पूर्व मुख्यमंत्रियों का सरकारी बंगले से मोह

अखिलेश यादव पर लगे तोड़-फोड़ के आरोप

उत्तरप्रदेश के राज्य संपत्ति विभाग ने आरोप लगाया है कि अखिलेश यादव ने बंगला खाली करने से पहले कई जगह तोड़फोड़ की। शनिवार को राज्य संपत्ति विभाग के अधिकारी बंगले के अंदर की तस्वीर देखकर हैरान रह गए। आप भी नीचे के वीडियो लिंक में देख सकते हैं अखिलेश यादव के उजड़े हुए आशियाने की तस्वीरें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *