Type to search

नयी खबर
उप्र के अपर मुख्य सचिव महेश कुमार गुप्ता हुए गिरफ्तार,जानेंLoksabha Election 2019: वीके सिंह की संपत्ति हुई दोगुनी,जानें हेमामालिनी और गडकरी की संपत्तिLok Sabha Election 2019 : जानें बीजेपी के 9 वी में लिस्ट में किसे मिला टिकटपहले चरण के मतदान के बाद लाल बहादुर शास्त्री की मौत पर बनी फिल्म होगी रिलीज,देखें ट्रेलरकांग्रेस का ग़रीब परिवारों को 72,000 रुपये सालाना देने का वादा कितना सच्चा !चुनावी टिकट ना मिलने से भड़के जोशी, इस तरह किया ऐलानराशिद अल्वी ने अमरोहा से वापस किया टिकट तो कांग्रेस ने सचिन को बनाया प्रत्याशीLok Sabha Election 2019 : कांग्रेस 72,000 रुपए सालाना देकर करेगी गरीब परिवारों की मददLok Sabha Election 2019 : 33 करोड़ में लगेगा वोटिंग स्याही का ये निशानजानें, कैसा रहेगा आज का दिन कन्या राशि के जातकों के लिएमुलायम-अखिलेश आय से अधिक संपत्ति मामला: सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया CBI को नोटिसअखिलेश यादव को घर का ऑफर, बीजेपी ने किया 6 साल के लिए निष्कासित
खबर राजनीति

अखिलेश ने मायावती को ये चीज खिलाकर मनाया ‘गठबंधन’ के लिए

Share
बबुआ अखिलेश ने बुआ मायावती को ये चीज खिलाकर मनाया 'गठबंधन' के लिए, जानें

आज बसपा सपा गठबंधन का औपचारिक ऐलान होने जा रहा है। यूपी की दोनों पार्टियों के प्रमुखों ने आबादी के लिहाज से देश के सबसे बड़े सूबे की 80 सीटों पर अपने गठबंधन को अंतिम रूप दे दिया है, दोनों दल 37-37 सीटों पर प्रत्याशी खड़े करेंगे, 3 सीटें चौधरी अजित सिंह तथा जयंत चौधरी के राष्ट्रीय लोकदल (RLD) के लिए छोड़ी गई हैं, और 1 सीट क्षेत्रीय निषाद पार्टी के लिए तय की गई है। सपा और बसपा राज्य की दो लोकसभा सीटों – कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी तथा UPA अध्यक्ष सोनिया गांधी के संसदीय क्षेत्रों अमेठी और रायबरेली में प्रत्याशी खड़े नहीं करेंगी, क्योंकि कांग्रेस भले ही राज्य में बने ‘मिनी-गठबंधन’ का हिस्सा नहीं है, लेकिन राष्ट्रीय चुनाव में उन्हीं के पास सबसे ज़्यादा मौके होंगे।

इस तरह हाल ही में तीन बड़े राज्यों – राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़  में जीतने वाली कांग्रेस को यूपी में पूरी तरह गठबंधन से बाहर भी नहीं किया गया है।

ये भी पढ़ें: तो ऐसे सपा-बसपा गठबंधन कांग्रेस और बीजेपी के लिए हो सकता है खतरा, जानें

अभी फ़िलहाल अखिलेश यादव और मायावती के बीच गठबंधन की औपचारिक घोषणा नहीं की गई है, और मायावती के करीबी सहयोगी सतीश मिश्रा ने इस बात से इंकार किया है कि बहनजी के जन्मदिन 15 जनवरी को बड़ी घोषणा के लिए चुना गया है।  लेकिन सूत्र इस बात की पुष्टि कर रहे हैं कि मंगलवार को हुई मुलाकात में सभी पहलुओं को अंतिम रूप दे दिया गया है, और इसका जश्न मनाने के लिए अखिलेश यादव ने पारंपरिक रूप से खिलाए जाने वाले ‘लड्डुओं’ के स्थान पर ‘बुआ जी’ को उनकी पसंदीदा सीताफल आइसक्रीम खिलाई।

ये भी पढ़ें: सपा-बसपा गठबंधन पर कांग्रेस की चेतावनी- ‘हो सकती है खतरनाक भूल’ !

Tags:

You Might also Like

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

%d bloggers like this: