Type to search

नयी खबर
Lok Sabha Election 2019 : चुनाव आते ही बिगड़े BJP के इस नेता के बोलआख़िर क्यों दी थी पीएम ने पाक प्रधानमंत्री इमरान खान को शुभकामनासपना चौधरी का ‘यू-टर्न’, कांग्रेस में शामिल होने से किया साफ इनकारप्रियंका गांधी और योगी आदित्यनाथ के बीच ‘ट्वीट वार’World Tuberculosis Day : टी.बी को नज़रअंदाज़ करना पड़ेगा महंगाबेटे अखिलेश ने मुलायम सिंह यादव को दिया जोर का झटका !टिकट कटने पर शत्रुघन सिन्हा का बड़ा बयान- ‘होगा एक्शन का रिएक्शन’दक्षिण भारत की इस सीट से चुनाव लड़ेंगे पीएम मोदी? कांग्रेस की लिस्ट से अटकले तेजLok Sabha Election 2019 : कांग्रेस ने जितिन प्रसाद के सामने रखे विकल्पअखिलेश यादव और आजम खान की उम्मीदवारी का हुआ ऐलान, इन सीटों से लड़ेंगे चुनावLok Sabha Election 2019 : जाने, बीजेपी की 4 और 5 लिस्ट में कौन से नाम शामिललम्बे इंतज़ार के बाद सपना चौधरी हुई कांग्रेस में शामिल
खबर देश

सावधान! अब मांगा आधार तो लगेगा 1 करोड़ का जुर्माना और होगी 10 साल की जेल

Share

अभी तक बैंक खाता खोलने और नया मोबाइल सिम खरीदने पर लोगों से आधार कार्ड मांगा जाता था, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में साफ कर दिया है कि अब बैंक और टेलिकॉम कंपनियां लोगों से आधार देने पर मजबूर नहीं कर सकती। बैंकों में अकाउंट खोलने और टेलिकॉम कंपनियों द्वारा आधार कार्ड को मांगने को सुप्रीम कोर्ट ने अवैध करार दिया था, जिसके बाद केंद्र सरकार ने अहम फैसला लिया है। पहचान और पते के प्रमाण के तौर पर आधार कार्ड के लिए दबाव बनाने पर बैंक और टेलिकॉम कंपनियों को 1 करोड़ रुपये तक का जुर्माना भरना पड़ सकता है।

यही नहीं ऐसा करने वाले कंपनियों के कर्मचारियों को 3 से 10 साल तक की सजा भी हो सकती है। इस तरह अब आप सिम कार्ड लेने या फिर बैंक में खाता खुलवाने के लिए आधार कार्ड की बजाय पासपोर्ट, राशन कार्ड या अन्य कोई मान्य दस्तावेज इस्तेमाल कर सकते हैं। कोई भी संस्था आधार कार्ड के इस्तेमाल के लिए आप पर दबाव नहीं डाल सकती। सरकार ने प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग ऐक्ट और भारतीय टेलिग्राफ ऐक्ट में संशोधन कर इस नियम को शामिल किया है। सोमवार को केंद्रीय कैबिनेट ने इन संशोधन को मंजूरी दी थी।

सरकारी सूत्रों का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट के हालिया आदेश को ध्यान में रखते हुए यह फैसला लिया गया है। कानून में हुए संशोधनों के मुताबिक, आधार ऑथेंटिकेशन करने वाली कोई संस्था यदि डेटा लीक के लिए जिम्मेदार पाई जाती है तो उसपर 50 लाख तक का जुर्माना और 10 साल तक की सजा हो सकती है। इन संशोधनों को फिलहाल संसद की मंजूरी मिलना बाकी है। हालांकि राष्ट्र हित में ऐसी जानकारी दी जा सकती है।

केंद्र सरकार के इस फैसले के चलते अब आपको बैंकों में खाते खुलवाने और सिम कार्ड लेने के लिए आधार देने की बाध्यता नहीं रहेगी।

Tags:

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

%d bloggers like this: