Type to search

नयी खबर
मनोहर पर्रिकर की वो आखिरी इच्छा जो पूरी नहीं हो सकी…प्रियंका गांधी ने बताया- ‘इस वजह से उनको घर से निकलकर राजनीति में आना पड़ा’मायावती और अखिलेश के ‘वार’ के बाद प्रियंका गांधी की दो टूक…जब पर्रिकर के एक फैसले ने बचाए थे देश के 49,300 करोड़ रुपयेमायावती के बाद अब अखिलेश यादव का कांग्रेस पर ‘ट्वीट वार’प्रियंका गांधी का पीएम मोदी पर तीखा हमला, चौकीदार तो अमीरों के होते हैंसपा-बसपा को कांग्रेस के ‘रिटर्न गिफ्ट’ पर मायावती की खरी-खरीकेंद्रीय मंत्री महेश शर्मा ने प्रियंका गांधी को लेकर दिया विवादित बयान,देखें वीडियोतो इस वजह से अखिलेश ने अपर्णा को नहीं उतारा चुनावी मैदान में…गांधी खानदान में इंदिरा गांधी के बाद प्रियंका गांधी पहुंची यहाँ, जानेजानें कांग्रेस के सपा-बसपा-RLD गठबंधन के लिए 7 सीट छोड़ने के क्या हैं मायने!मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद कांग्रेस ने सरकार बनाने के लिए ठोका दावा
बॉलीवुड मनोरंजन सेलेब्रिटी

B’day Special : शांत से दिखने वाले अनुपम जब महेश भट्ट पर भड़के…..

Share
B'day Special : शांत से दिखने वाले अनुपम जब महेश भट्ट पर भड़के.....

अनुपम खेर को उनकी बेहतरीन अदाकारी के लिए जाना जाता है। इंडस्ट्री में इतने सालों काम करने के बाद भी वो ख़ुद को बिल्कुल नये कलाकार की तरह ही समझते हैं। उनका काम करने का जज़्बा आज भी नए कलाकारों की तरह ही हैं। आज अनुपम खेर का जन्मदिन है। 7 मार्च, 1955 को अनुपम ने शिमला में पहली बार अपनी आंख खोली थी।

अनुपम खेर को आप सभी ने हस्ते मुस्कुराते हुए ही देखा होगा। शुरू के किरदार को अगर छोड़ दें तो बाक़ी किरदार में वो दर्शकों को हंसाते हुए ही नज़र आये हैं। हम आपके हैं कौन, दिलवाले दुल्हनियां ले जायेंगें आदि फिल्मों में दर्शकों ने उनका काम ख़ूब सराहा है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि हंसने हंसाने वाले अनुपम भी कभी किसी पर गुस्से की बौछार कर सकते हैं।

अनुपम खेर ने फिल्मी करियर की शुरुआत महेश भट्ट की फिल्म ‘सारांश’ (1984) से बतौर लीड एक्टर के तौर पर की थी। इस फिल्म में अनुपम ने एक बूढ़े का रोल प्ले किया था, एक 28 साल के लड़के के लिए एक बूढ़े का रोल निभाना कितना मुश्किल रहा होगा,ये अंदाज़ा लगा पाना बेहद मुश्किल है।

करियर के शुरूआती दिनों में अनुपम, महेश भट्ट से काम के सिलसिले में कई बार मिले लेकिन महेश भट्ट की तरफ से कोई फाइनल जवाब न मिल पाने के कारण अनुपम का सब्र ख़त्म होने लगा, सब्र के साथ-साथ जो पैसे पास में थे वो भी ख़त्म हो चुके थे। कहीं आने जाने का किराया भी ख़त्म हो चुका था। जिस इंसान के पास न रहने की जगह हो, न पास में पैसा हो, उसकी मानसिक हालत क्या होगी….

बेहद गुस्से के साथ अनुपम ने महेश भट्ट के घर जाने का फैसला किया,और जितनी भी भड़ास थी सब उनपे निकाल दी। महेश भट्ट ने उनका वो रूप देखा और उन्हें उसी वक़्त फिल्म में काम करने के लिए मंज़ूरी दे दी। वो दिन है और आज का दिन है दोनों में अटूट दोस्ती है।

Tags:

You Might also Like

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

%d bloggers like this: