Type to search

खबर राजनीति

शपथ ग्रहण समारोह से पहले कांग्रेस को मिली बुरी खबर, इस नेता को हो गई उम्रकैद

साल 1984 में सिख विरोधी दंगे हुए थे और देशभर में इस दंगे को लेकर बहुत ही ज्यादा माहौल खराब हुआ था। इस दंगे में बहुत सारे लोगों की जान चली गई थी। इस दंगे में बहुत सारे परिवारों को दुख झेलना पड़ा था और उन्ही परिवारों में से एक था दिल्ली कैंट के राजपुर इलाके में रहने वाला सिंह परिवार जिसमें रहने वाले तीन भाईयों को भीड़ ने मौत के घाट उतार दिया था। इसके साथ ही एक और परिवार ने अपने दो बेटे गुरप्रित और केहर सिंह को खो दिया था।



इसी केस में आत्मा सिंह लुबाना ने कांग्रेस नेता सज्जन कुमार समेत पूर्व कांग्रेस पार्षद बलवान खोखर, रिटायर्ड नौसेना के अधिकारी कैप्टन भागमल, गिरधारी लाल और अन्य दो को आरोपी बनाया था। लेकिन साल 1994 को इस केस को बंद कर दिया था लेकिन आत्मा सिंह ने लगातार अपनी जंग जारी रखी और आखिरकार 2005 में नानावटी कमिशन के रिपोर्ट के आधार पर फिर से केस दर्ज हुआ।




हालांकि साल 2013 में निचली अदालत ने सज्जन कुमार को छोड़कर सभी आरोपी को दोषी करार दिया था। सज्जन कुमार को इस केस से बरी कर दिया गया था क्योंकि निचली अदालत का कहना था कि उनके खिलाफ सबूतों के अभाव हैं। इसके बाद पीड़ित परिवार ने दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया और आखिरकार सज्जन कुमार को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है।

दिल्ली हाईकोर्ट का कहना है कि निचली अदालत ने सज्जन कुमार के खिलाफ कई सारे सबूतों को नजरअंदाज किया था। लेकिन अब जब कांग्रेस अपने तीन नए मुख्यमंत्री बनने का जश्न मना रही है ऐसे में कांग्रेस के दिग्गज नेता को उम्रकैद हो जाना कांग्रेस के लिए एक बुरी खबर हो सकती है।

Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *