Type to search

नयी खबर
पुलवामा हमला: हरियाणा में कश्मीरी छात्रों को किया गया पीजी से बाहरभारतीय सेना के खिलाफ पोस्ट करना गुवाहाटी प्रोफेसर को पड़ा भारी, कॉलेज से निलंबितजापान ने भारत के लिए तोड़ी अपनी वर्षों पुरानी कसम, जानिएभारत का पाकिस्तान के साथ हुआ युद्द तो ये देश देंगे साथ?कश्मीर के वो 6 युवा जिनको देश करता है सलाम, पीएम मोदी भी कर चुके हैं तारीफSBI ने एक बार फिर अपने ग्राहकों के लिए जारी की ये चेतावनी,कहा-इन नंबरों…पुलवामा आंतकी हमले के बाद यूएस ने भारत को दि जवाबी कार्रवाई की सहमति, कही बड़ी बातभारत ने पाकिस्तान पर इस तरह की सर्जिकल स्ट्राइक! जानेंअब ये उद्योगपति आगे आया पुलवामा शहीद जवानों के परिवार की मदद के लिए,जानेंपुलवामा हमला: T-Series ने पाकिस्तानी सिंगर को दिया बड़ा झटका, कर दिया ‘Unlist’Best Toilet Paper In The World में पाकिस्तान का झंड़ाजवान के अंतिम संस्कार के दौरान हंसते दिखे साक्षी महाराज, लोगों ने लगाई लताड़
खबर राजनीति

बीजेपी नेता ने मायावती के लिए किया अभद्र भाषा का इस्तेमाल, भड़के अखिलेश

Share
बीजेपी नेता ने मायावती के लिए किया अभद्र भाषा का इस्तेमाल, भड़के अखिलेश

लोकसभा चुनाव 2019 की तैयारियां जोरों पर हैं। सत्ताधारी पार्टी का नेता हो या फिर विपक्ष का नेता कोई भी एकदूजे को निशाना बनाने से नहीं चूक रहा है। इसी क्रम में एक नेता द्वारा बसपा प्रमुख मायावती पर की गई अभद्र टिप्पणी पर सपा ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है।

सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव ने खुद ट्वीट कर कहा कि यह भाजपा के नैतिक दिवालियापन और हताशा का प्रतीक है। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा, ‘मुगलसराय से भाजपा की महिला विधायक ने जिस तरह के आपत्तिजनक अपशब्द मायावती के लिए प्रयोग किए हैं वे घोर निंदनीय हैं। ये भाजपा के नैतिक दिवालियापन और हताशा का प्रतीक है। ये देश की महिलाओं का भी अपमान है।’

अखिलेश से पहले बसपा के नेता सतीशचंद्र मिश्रा ने कहा, ”साधना सिंह का बयान भाजपा के स्तर को प्रदर्शित करता है। सपा-बसपा गठबंधन के बाद भाजपा नेताओं का दिमागी संतुलन गड़बड़ा गया है और उन्हें आगरा या बरेली के मेंटल हॉस्पिटल (मानसिक अस्पताल) में भर्ती करा देना चाहिए।”

बीजेपी विधायक साधना सिंह ने बसपा प्रमुख मायावती को लेकर अभद्र भाषा का इस्तेमाल कर सियासी गलियारों में हलचल मचा दी है। साधना सिंह ने एक जनसभा के दौरान कहा कि यूपी की पूर्व सीएम न महिला लगती हैं और न पुरुष लगती हैं। जिस महिला की बीजेपी के नेता ने आबरू लुटते-लुटते बचाई, उसने सुख-सुविधा पाने के लिए अपने अपमान को पी लिया।

इनको तो अपना सम्मान ही समझ नहीं आता। जिस महिला का चीरहरण हुआ, जिसका सबकुछ लुट गया उसके बाद भी कुर्सीं पाने के लिए अपने सारे सम्मान को बेच दिया। ऐसी महिला मायवती जी का हम इस कार्यक्रम के माध्यम से तिरस्कार करते हैं। वह महिला नारी जाति पर कलंक है। जिस महिला की आबरू बीजेपी के नेताओं ने लुटते-लुटते बचाई, उस महिला ने सुख-सुविधा और अपने वर्चस्व को बचाने के लिए अपने अपमान को पी लिया। जिस महिला के ब्लाउज, पेटीकोट और साड़ी फट जाए, अगर वह सत्ता के लिए आगे आती है तो उसको पूरे देश की महिलाएं कलंकित मानती हैं..वो न तो नर है और न महिला वह तो किन्नर से भी ज्यादा बदतर है।”

Tags:

You Might also Like

%d bloggers like this: