Type to search

नयी खबर
Lok Sabha Election 2019 : जाने, बीजेपी की 4 और 5 लिस्ट में कौन से नाम शामिललम्बे इंतज़ार के बाद सपना चौधरी हुई कांग्रेस में शामिलLok Sabha Election 2019 : कांग्रेस की 8वीं लिस्ट में दिग्विजय सिंह का नाम भी शामिलजानें, किस राशि वालों का आज व्‍यापार में उतार चढ़ाव बना रहेेगाहर वोट है कीमती, इतिहास के पन्नों से जानिए एक-एक वोट की कीमत…परेश रावल ने चुनाव ना लड़ने का किया ऐलान, मीडिया से किया ये अनुरोधबीजेपी के सभी चौकीदार चोर हैं : राहुल गांधीशहीदी दिवस पर याद आये भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरुअमेठी के साथ-साथ इस सीट से भी चुनाव लड़ेंगे राहुल गांधी ?अखिलेश यादव ने ‘बीजेपी IT सेल’ को दिया नया नाम, जुबानी जंग तेजकल्याण सिंह ने दबे स्वर में अलीगढ़ प्रत्याशी सतीश गौतम का किया विरोध!IPL 2019: धोनी बनाम विराट, आंकड़ों से जानिए कौनसी टीम है किसपर भारी…
खबर देश

Budget 2019: डिजिटल इंडिया के लिए पीयूष गोयल का बड़ा ऐलान, ग्रामीण इलाकों…

Share
Budget 2019 डिजिटल इंडिया के लिए पीयूष गोयल का बड़ा ऐलान, ग्रामीण इलाकों...

पीएम मोदी ने केंद्र में आते ही डिजिटल इंडिया की शुरुआत की। लगातार इसके तहत नई योजना लॉन्च की गई है। ग्रामीण इलाकों में फाइबर बिछाए गए हैं। गांवों में वाईफाई कनेक्टिविटी पहुंचाने का काम किया जा रहा है। 90 प्रतिशत से ज्यादा इंडियन सिटिजन्स के आधार कार्ड बना दिए गए हैं। सरकार का दावा है कि ग्रामीण इलाकों में सेंटर्स बनाए गए हैं। दावा ये भी है कि 40 हजार ग्राम पंचायत में वाईफाई हॉट स्पॉट लगा दिए गए हैं।

संसद में बजट पेश करते हुए केंद्रिय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है, ‘भारत स्टार्टअप का दूसरा सबसे बड़ा हब बन गया है। सरकार की तरफ से आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस टेक्नॉलजी पर प्रोग्राम बनाए गए हैं और नेशनल सेंटर्स तैयार किए गए हैं। इसके साथ ही सेंटर ऑफ एक्सलेंस भी तैयार किए गए हैं। नेशनल आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पोर्टल जल्द ही बनेगा।’

पीयूष गोयल ने बजट 2019 के दौरान डिजिटल इंडिया को लेकर कहीं ये बाते:

मोबाइल डेटा खपत में इंडिया नंबर. 1 देश है

मंथली डेटा कंजम्प्शन 50 गुणा बढ़ा है

दुनिया में सबसे सस्ता डेटा और कॉलिंग है

मोबाइल कंपनियां भारत में जॉब दे रही हैं

कॉमन सर्विस सेंटर ग्रामीण इलाकों में बढ़ रही हैं और डिजिटल विलेज तैयार हो रहे हैं

अगले पांच साल में 1 लाख डिजिटल विलेज बनाए जाएंगे

इनकम टैक्स रिटर्न के लिए टेक्नॉलजी का यूज किया जा रहा है। अगले 2 साल में वेरिफिकेशन्स भी इलेक्ट्रॉनिक तरीके से होंगे। स्क्रूटनी के लिए भी दफ्तर नहीं जाना होगा। किसकी स्क्रूटनी हो रही है और ऑफिसर कौन है ये किसी को नहीं पता चलेगा।

ग्रामीण क्षेत्रों में सर्विस पहुंचाने के लिए कॉमन सर्विस सेंटर्स बनाए गए हैं। इन केंद्रों में लोगों को बीमा, पेंशन, बैंकिंग और स्कॉलरशिप जैसी सर्विस के बारे में जानकारी मिलती है। कॉमन सर्विस सेंटर तेजी से बढ़े हैं। दावा किया गया है कि 2014 में देश में 84 हजार कॉमन सर्विस सेंटर थे और अब ये बढ़ कर 3 लाख से ज्यादा हो गए हैं।

Tags:

You Might also Like

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

%d bloggers like this: