Type to search

खबर देश

DGP ओपी सिंह को रात 3 बजे अंजान शख्स का आया फोन और फिर हुआ चौकानें वाला काम

कही बार दिन में भी पुलिस अफ़सर अपना सरकारी मोबाइल फ़ोन नहीं उठाते हैं। अब ऐसे हालात में अगर देर रात 3 बजे यूपी के DGP किसी अनजान शख्स का फ़ोन उठा लें, उसकी बात सुन लें और फिर उस मामले में उसी वक़्त कार्रवाई हो जाए। तो एक बार तो यक़ीन नहीं होगा। लेकिन ये सच है। मिर्ज़ापुर में जमीन क़ब्ज़े के एक मामले में ऐसा ही हुआ। DGP ओपी सिंह ने तो लापरवाही के आरोप में मिर्जापुर की एसपी को भी हटा दिया। अब देर रात 3 बजे फोन पर हुए एक्शन की चर्चा सत्ता के गलियारें में हो रही है।

क्या था मामला:

राजाराम यूपी के मिर्ज़ापुर जिले के रहने वाले हैं। उनके गांव दहमर में कुछ लोगों से उनका जमीन का झगड़ा था। कोर्ट ने उस विवादित जमीन पर किसी तरह के निर्माण पर रोक लगा दी थी। लेकिन राजाराम के विरोधी नहीं माने। पिछले कुछ दिनों से रात के अंधेरे में जमीन पर काम शुरू हो गया था। मंगलवार की देर रात तो जेसीबी भी पहुंच गई।



राजाराम मौक़े पर पहुंचा तो दबंगों ने जान से मारने की धमकी देकर उन्हें भगा दिया। मदद के लिए पहले उन्होंने इलाक़े के थानेदार को फ़ोन किया. फ़ोन नहीं उठा तो सीओ के मोबाइल पर बात करने की कोशिश की। फिर भी बात नहीं बनी तो राजाराम ने एसपी को फ़ोन किया। थक हार कर उन्होंने DGP ओपी सिंह को सरकारी नंबर पर फ़ोन किया। दो घंटी बजने पर ही फ़ोन उठ गया।

राजाराम ने अपनी पूरी रामकहानी पुलिस के मुखिया को बताई। उस वक़्त रात के 3 बज रहे थे। थोड़ी ही देर में मिर्ज़ापुर के सोते हुए पुलिस अधिकारी जग गए। जमीन पर अवैध निर्माण का काम रूक गया, दो लोग गिरफ़्तार भी कर लिए गए। राजाराम कहते हैं कि मैं तो निराश हो गया था, कहीं से कोई मदद नहीं मिल रही थी। लेकिन एक फ़ोन से काम हो गया। इस मामले में फ़ोन न उठाने वाले पुलिस अफ़सरों को डीजीपी ने फटकार लगाई।

DGP सिंह कहते हैं “पुलिस अफ़सरों को हर समय फ़ोन उठाना चाहिए। न जाने लोग किस मुसीबत में हों। शिकायत मिलने पर संबंधित लोगों पर कार्रवाई होगी”।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *