यहाँ सर्च करे

खड़े होकर पानी पीना हो सकता है काफी नुकसानदायक, किडनी से लेकर घुटनों तक पड़ता है असर


पानी एक ऐसा सच है जिसके बिना सब कुछ बेकार है। यदी पानी नहीं तो कुछ नहीं। यहां तक की ये एक ऐसी चीज है जिसके बगैर कोई रह ही नहीं सकता है। तो पहले ये जानिए की कितना पानी दिन में पीना चाहिए…

एक दिन में दो से ढ़ाई लीटर तक पानी पीना जरूरी है। सिर्फ आपको समय-समय पर पानी पीना आपको शरीर को सेहतमंद रख सकता है। मौसम में बदलाव आने से सर्दी-जुकाम की समस्या को भी पानी ही दूर कर सकता है।

खाने के तुरंत बाद ना पीए पानी

खाने के तुरंत बाद पानी पीने से पेट में भोजन के साथ गैस्ट्रिक जूस बनने लगता है जिससे पेट और सीने में जलन के अलावा खाना ठीक से पच नहीं पाता है. वहीं अगर तीखा खाना खा रहे हैं तो घूंट-घूंटकर पानी पिएं. एक साथ ढेर सारा पानी पीने से खाना पचने में दिक्कत हो सकती है।




अब जाने खड़े हो कर पानी पीने के नुकसान

1. पेट की बीमारी – पेट की बीमारी- खड़े होकर पानी पीने से तेजी से पानी फूड पाइप द्वारा पेट में जाता है. ये आसपास के अंगों और पेट को नुकसान पहुंचाता है. पाचन क्रिया को बिगाड़ता है।

2. अपच की समस्या – जब बैठे होते हैं तो मसल्स और नर्वस सिस्टम रिलैक्स होती हैं. पानी आसानी से पच जाता है। जबकि खड़े होकर इसे पीने से अपच की समस्या पैदा होती है।

3.किडनी से जुड़ी समस्या – किडनी का काम पानी को सही ढंग से छानना होता है। जब खड़े होकर पानी पीते हैं तो ये अपना कार्य ठीक तरह से नहीं कर पाती है। कारणवश, पानी सही तरह से छनता नहीं है। यूरीन साफ नहीं आता और गंदगी किडनी में ही रुक जाती है। इसके चलते किडनी की समस्या, यूरीन में इंफेक्शन और जलन महसूस होती है।

4.अर्थराइटिस है एक और कारण – खड़े होकर पानी पीने से पानी सीधा घुटनों में उतरता है. यानी जोड़ों में मौजूद तरल पदार्थों का संतुलन बिगड़ जाता है जिससे जोड़ों के दर्द की समस्या होने लगती है।


Tags::

You Might also Like

न्यूज़१ इंडिया की खबरों को पाने के लिए ALLOW बटन पर क्लिक करे|