Type to search

नयी खबर
रिश्तेदार के कांग्रेस में शामिल होने पर महेंद्र नाथ पाण्डेय ने दिया बड़ा बयानबीजेपी के ‘शत्रु’ जाएंगे कांग्रेस के साथ, पटना साहिब से लड़ेंगे चुनाव !जानें हिंदुस्तान की राजनीति में किस नेता ने वंशवाद को दिया बढ़ावाVideo: सियासी फगवा गाने में माया,मुलायम,योगी,मोदी,अखिलेश,प्रियंका और राहुल पर ली चुटकीचुनाव लड़ने की खबरों के बीच माया का बयान- ‘जब चाहूं जीत सकती हूं चुनाव’बीजेपी नेता आईपी सिंह ने ‘चौकीदार’ को लेकर कह दी बड़ी बात,जानेंBJP सांसदों के टिकट कटने पर अखिलेश यादव का ‘कप्तान’ पर तंजयूपी बीजेपी के इस कद्दावर नेता की बहू हुई बागी, थामा कांग्रेस का हाथआज पीएम मोदी के गढ़ में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी, पीएम मोदी पर बोला हमलाExclusive: बीजेपी से यूपी के इन सांसदों का कटेगा टिकट? आज आएगी लिस्टHoli 2019 : होली पूजा के साथ भगवान विष्णु की भी पूजा करेंHoli 2019 : जानें,क्यों डालीं जाती हैं होलिका दहन मे गेहूं की बालियां
Republic Day खबर देश

जानें, गणतंत्र दिवस की पहली परेड कहाँ हुई थी और कितने लोग शामिल हुए थे

Share
जानें, गणतंत्र दिवस की पहली परेड कहाँ हुई थी और कितने लोग शामिल हुए थे

गणतंत्र दिवस की परेड राजपथ पर होती है, लेकिन गणतंत्र दिवस की पहली परेड इर्विन स्टेडियम में हुई थी तो इसको देखने के लिए 15 हज़ार लोग पहुंचे थे। आधुनिक गणतंत्र के पहले राष्ट्रपति ने इर्विन स्टेडियम में तिरंगा फहराकर परेड की सलामी ली। उस समय हुई परेड में सशस्त्र सेना के तीनों बलों ने भाग लिया था।

इस परेड में नौसेना, इन्फेंट्री, कैवेलेरी रेजीमेंट, सर्विसेज रेजीमेंट के अलावा सेना के सात बैंड भी शामिल हुए थे। इतना ही नहीं, इस दिन पहली बार राष्ट्रीय अवकाश घोषित हुआ। देशवासियों की अधिक भागीदारी के लिए आगे चलकर साल 1951 से गणतंत्र दिवस समारोह किंग्स-वे (आज का राजपथ) पर होने लगा।

गणतंत्र दिवस का इतिहास:

– साल 1952 से बीटिंग रिट्रीट का कार्यक्रम शुरू हुआ।

– साल 1956 में पहली बार पांच सजे-धजे हाथी गणतंत्र दिवस परेड में शामिल हुए।

– 1958 से राजधानी की सरकारी इमारतों पर बिजली से रोशनी करने की शुरूआत हुई।

– साल 1959 में पहली बार गणतंत्र दिवस समारोह में दर्शकों पर वायुसेना के हेलीकॉप्टरों से पुष्प वर्षा हुई।

– साल 1973 में पीएम इंदिरा गांधी के कार्यकाल में पहली बार इंडिया गेट पर स्थित अमर जवान ज्योति पर सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। तब से यह परंपरा आज तक जारी है।

Tags:

You Might also Like

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

%d bloggers like this: