सरकारी योजनाओं का लाभ न मिलने से हाथरस में एक बुजुर्ग शौचालय में रहने को मजबूर

उत्तर प्रदेश राज्य

हाथरस में स्वच्छ भारत मिशन की उड़ रही छज्जियां, बुजुर्ग ने सरकार पर लगाए गंभीर आरोप

हाथरस– उत्तर प्रदेश के हाथरस जिले में स्वच्छ भारत मिशन और सरकार की सारी योजनाएं खोखली पड़ी नजर आई। आए दिन सरकार अपनी किसी न किसी नई योजना की घोषणा करती है और दावा करती है कि इससे लोगों की जिदंगी और आसान हो जाएगी, पर क्या सच में इन योजनाओं से लोगों की जिदंगी आसान हो रही है या फिर ये योजनाएं सरकारी दस्तावेजों में ही जनता के लिए फायदेमंद नजर आ रही है। सरकार आखिर क्यों इन योजनाओं को जनता तक पहुंचाने में लगातार नाकाम साबित हो रही है। इस बार मामला यूपी के हाथरस जिले से सामने आया है।

किसी भी सरकारी योजना का नहीं मिला लाभ- बुजुर्ग

हाथरस के मुरसान ब्लॉक के चिंतापुर गांव में एक युवक शौचालय में रहने के लिए मजबूर है। बुजुर्ग जमुना प्रसाद का कहना है कि उसके पास रहने के लिए घर नहीं है इसलिए वह सरकार द्वारा दिए गए शौचालय में रहने के लिए मजबूर है। बुजुर्ग ने सरकारी योजनाओं पर बयान देते हुए कहा है कि उसे अभी तक सरकार की किसी भी योजना का लाभ नहीं मिला। जमुना प्रसाद ने अपने गांव के प्रधान पर आरोप लगाते हुए कहा है कि उसने प्रधान से कई बार घर के लिए कहा, पर प्रधान ने एक बार भी उसकी बात नहीं सुनी।

ग्राम्य विकास विभाग ने दिए जांच के आदेश

इतना ही नहीं जमुना प्रसाद ने बुजुर्ग पेंशन योजना पर भी सवाल उठाए है। उनका कहना है कि उन्हें बुजुर्ग पेंशन भी नहीं मिल रही जिसकी वजह से उनकी जिदंगी और भी मुश्किल हो गई है।जमुना प्रसाद ने सरकार से न्याय की मांग की है। उन्होंने कहा है कि उन्हें सरकारी आवास योजना के तहत एक घर मिलना चाहिए और बुजुर्ग पेंशन भी उन्हें मिलनी चाहिए। मामला सामने आने के बाद प्रशासन ने बुजुर्ग को मदद का आश्वासन दिया है। ग्राम्य विकास विभाग के परियोजना निदेशक ने मामले की जांच के आदेश दिया है। उनका कहना है कि जांच करने के बाद उन्हें सरकार की सारी योजनाओं का लाभ जरुर दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.