Type to search

नयी खबर
उप्र के अपर मुख्य सचिव महेश कुमार गुप्ता हुए गिरफ्तार,जानेंLoksabha Election 2019: वीके सिंह की संपत्ति हुई दोगुनी,जानें हेमामालिनी और गडकरी की संपत्तिLok Sabha Election 2019 : जानें बीजेपी के 9 वी में लिस्ट में किसे मिला टिकटपहले चरण के मतदान के बाद लाल बहादुर शास्त्री की मौत पर बनी फिल्म होगी रिलीज,देखें ट्रेलरकांग्रेस का ग़रीब परिवारों को 72,000 रुपये सालाना देने का वादा कितना सच्चा !चुनावी टिकट ना मिलने से भड़के जोशी, इस तरह किया ऐलानराशिद अल्वी ने अमरोहा से वापस किया टिकट तो कांग्रेस ने सचिन को बनाया प्रत्याशीLok Sabha Election 2019 : कांग्रेस 72,000 रुपए सालाना देकर करेगी गरीब परिवारों की मददLok Sabha Election 2019 : 33 करोड़ में लगेगा वोटिंग स्याही का ये निशानजानें, कैसा रहेगा आज का दिन कन्या राशि के जातकों के लिएमुलायम-अखिलेश आय से अधिक संपत्ति मामला: सुप्रीम कोर्ट ने जारी किया CBI को नोटिसअखिलेश यादव को घर का ऑफर, बीजेपी ने किया 6 साल के लिए निष्कासित
खबर देश

हनुमान जी को अपना बनाने की लगी होड़, अब आचार्य निर्भय सागर ने हनुमान जी को बताया…

Share

उत्तरप्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा हनुमान जी को दलित कहे जाने के बाद जैसे सभी धर्म या समाज के लोग हनुमान जी को अपना बनाने की होड़ में लग गए है। जहां हनुमान जी को कभी कोई आर्य बताता है तो कभी कोई अनूसुचित जनजाती का, मगर अब समसगढ़ के पंचबालयति जैन मंदिर में मीडिया से बात करते हुए जैन आचार्य निर्भय सागर ने हनुमान जी को जैन बता दिया है।

मध्यप्रदेश में बैठे जैन आचार्य निर्भय सागर ने जब से हनुमान जी को जैन धर्म से बताया है तब से ही उनकी ये वीडियो साशल मीडिया पर वायरल है। बता दें कि उस वीडियो में आचार्य निर्भय सागर ने बताया कि जैन दर्शन के कई ऐसे ग्रंथ हैं जिनमें हनुमानजी के जैन धर्म से होने की बात लिखी है। जैन धर्म में 24 कामदेव होते हैं।

जिनमें से एक हनुमानजी हैं। जैन दर्शन के अनुसार चक्रवर्ती, नारायण, प्रति नारायण, बलदेव, वासुदेव, कामदेव और तीर्थंकर के माता पिता ये सभी क्षत्रिय हुआ करते हैं। आचार्य निर्भय सागर ने बताया कि इनकी संख्या 169 हुआ करती है, जो कि महापुरुष होते हैं । इन महापुरुषों में हनुमान का भी नाम है और कामदेव होने के नाते ये क्षत्रिय थे। उन्होंने कहा कि जैन दर्शन के अनुसार हनुमान पहले क्षत्रिय थे। उन्होंने वैराग्य की अवस्था को धारण किया इसके बाद जंगलों में जाने के बाद हनुमान ने दीक्षा ली।

Tags:

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

%d bloggers like this: