Type to search

खबर देश

हनुमान जी को अपना बनाने की लगी होड़, अब आचार्य निर्भय सागर ने हनुमान जी को बताया…

उत्तरप्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा हनुमान जी को दलित कहे जाने के बाद जैसे सभी धर्म या समाज के लोग हनुमान जी को अपना बनाने की होड़ में लग गए है। जहां हनुमान जी को कभी कोई आर्य बताता है तो कभी कोई अनूसुचित जनजाती का, मगर अब समसगढ़ के पंचबालयति जैन मंदिर में मीडिया से बात करते हुए जैन आचार्य निर्भय सागर ने हनुमान जी को जैन बता दिया है।

मध्यप्रदेश में बैठे जैन आचार्य निर्भय सागर ने जब से हनुमान जी को जैन धर्म से बताया है तब से ही उनकी ये वीडियो साशल मीडिया पर वायरल है। बता दें कि उस वीडियो में आचार्य निर्भय सागर ने बताया कि जैन दर्शन के कई ऐसे ग्रंथ हैं जिनमें हनुमानजी के जैन धर्म से होने की बात लिखी है। जैन धर्म में 24 कामदेव होते हैं।



जिनमें से एक हनुमानजी हैं। जैन दर्शन के अनुसार चक्रवर्ती, नारायण, प्रति नारायण, बलदेव, वासुदेव, कामदेव और तीर्थंकर के माता पिता ये सभी क्षत्रिय हुआ करते हैं। आचार्य निर्भय सागर ने बताया कि इनकी संख्या 169 हुआ करती है, जो कि महापुरुष होते हैं । इन महापुरुषों में हनुमान का भी नाम है और कामदेव होने के नाते ये क्षत्रिय थे। उन्होंने कहा कि जैन दर्शन के अनुसार हनुमान पहले क्षत्रिय थे। उन्होंने वैराग्य की अवस्था को धारण किया इसके बाद जंगलों में जाने के बाद हनुमान ने दीक्षा ली।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *