कितने प्रकार के होते हैं चावल और भारत में क्या है उपयोग ?

दुनियाभर में भारत दूसरे स्थान पर है जो सबसे ज्यादा चावल उगाता है. पहले स्थान पर चाइना है. चावल के दुनियाभर में करीब 40 हजार से ज्यादा किस्मे पाई जाती है. भारत में भी अलग-अलग जगह चावल की खोती होती है. दुनियाभर में चावल एक ऐसा अन्न है जिसकी खेती सबसे ज्यादा होती है. चावल खाने के कई फायदे भी हैं. भारत में जहां चावल को मुख्य भोजन के तौर पर खाया जाता है तो वहीं अलग-अलग देशों में चावल के कई उपयोग है.

चावल के प्रकार:-

सफेद चावल- भारत में सफेद चावल को सबसे ज्यादा खाया जाता है और इसे बनाने में भी कम समय लगता है और ये आसानी से पच जाता है. सफेद चावल खाने से डायरिया, पेचिश, कोलाइटिस जैसे पेट के रोगों में आराम मिलता है.



ब्राउन राइस- कम स्टार्च और कम कैलोरी वाले इस चावल में कई प्रकार के गुण पाए जाते हैं.

लाल चावल- दिखने में लाल होने की वजह से इसका नाम लाल चावल पड़ा है. इसके अंदर लौह तत्व पाए जाते हैं और इसे खाने से इन्सुलिन और ब्लड सूगर संतुलित रहता है.

उसना चावल- पक्का चावल या उसना चावल डायबीटिस रोगियों के लिए काफी ज्यादा फायदेमंद है. इसमें कैलशियम, मैगनिशियम, आइरन, पोटाशियम जैसे पौषक तत्व पाए जाते हैं.

महकने वाले चावल- बासमती चावल या चमेली चावल दिखने में काफी सुंदर और लंबे होते हैं. इसे जब बनाया जाता है तो इसमें से काफी ज्यादा अच्छी खूशबू आती है. बासमती चावल हरियाणा के करनाल जिले में ज्यादातर उगाए जाते हैं और चमेली चावल मुख्यत: थाइलैंड में उगाया जाता है.

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |