Type to search

खबर देश

लोकसभा में राफेल डील पर भाजपा को घेरना राहुल को फिर पड़ा महंगा, राहुल पर भड़के जेटली

सत्तारुढ़ भाजपा और विपक्षी पार्टी कांग्रेस दोनों के बीच हमेशा से ही छत्तीस की आंकड़ा रहा है और दोनों ही पार्टियां एक दूसरे को पीछे करने की होड़ में लगी रहती हैं । ऐसे में दोनों ही पार्टीयों के नेता एक दूसरे पर तंज कसते रहते है इसके अलवा एक दूसरे को नीचा दिखाने का भी कोई मौका हाथ से नहीं जाने देते हैं । यही वजह है कि इन दिनों राफेल डील को लेकर लोकसभा में बहस छिड़ी हुई है जिसमें बार-बार कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और उनकी सरकार पर निशाना साधते हुए देखा गया है । बता दें कि बुधवार को सदन में राफेल डील मुद्दे को लेकर फिर से बहस छिड़ी इसी दौरान राहुल गांधी ने सत्तासीन सरकार पर जमकर निशाना साधा जिसके बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राहुल का काफी विरोध किया ।



बता दें कि लोकसभा में राफेल डील मुद्दे पर दोबारा बहस हुई जिसमें बीजेपी को घेरना का कांग्रेस पार्टी ने कोई अवसर नहीं छोड़ा । दसअसल, सदन में बहस के दौरान राहुल गांधी ने अपनी जेब से फोन निकालकर ऑडियो टेप निकाला और उसे चलाने की परमिशन जब लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन से मांगी तो उन्होंने (लोकसभा स्पीकर) साफ इंकार कर दिया । परमिशन मांगने के बाद ही लोकसभा मे हंगामा शुरु हो गया । अरुण जेटली ने भी राहुल का विरोध किया।




इसी दौरान लोकसभा स्पीकर ने कहा कि यदि राहुल गांधी ऑडियो टेप की पुष्टि करते है या फिर लिखित में इसके जिम्मेदारी देते हैं तभी परमिशन मिल सकती है, इस पर राहुल ने कहा वह इस ऑडियो टेप को सुनाने की बजाय इसकी ट्रांसक्रिप्ट भी पढ़ सकते हैं इसके बावजूद भी राहुल परमिशन मांगने में कामयब नहीं हुए । बाद में अरूण जेटली भी राहुल पर भड़क गए और कहने लगे कि वह ऑडियो टेप की पुष्टि नहीं कर रहे हैं साथ ही लिखित में भी इसकी पुष्टी करने की हामी नहीं भर रहें हैं, इसके बाद उन्होंने कहा कि फ्रांस की सरकार भी उनके दावे को ठुकरा चुकी है । इतना ही नहीं जेटली ने कहा राहुल झूठे हैं और एक बाद एक झूठे आरोप लगाने में लगे हुए हैं ।

सूत्रों के मुताबिक ऑडियो टेप में गोवा के केबिनेट मंत्री विश्वजीत राणे का बयान है जिसमें मुख्यमंत्री मनोहर पारिकर को लेकर दावा किया । मंत्री ने मनोहर पारिकर के बेडरूम मे राफेल सौदे की फाइल होने का दावा किया है परन्तु इस टेप को लोकसभा में चलाने की अर्जी को सिरे से नकार दिया गया ।

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *