Lok Sabha Election 2019 : कांग्रेस ने जितिन प्रसाद के सामने रखे विकल्प

कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी के करीबी दोस्त जितिन प्रसाद (पूर्व केंद्रीय मंत्री) की पार्टी से नाराज़गी की ख़बरें चर्चा में बनी हुई हैं साथ ही उन्‍हें मनाने की कवायद भी जारी है। 23 मार्च को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने जितिन प्रसाद से मुलाकात की। सूत्रों के अनुसार मुलाकात में जितिन के सामने दो विकल्प रखे गए हैं।

राहुल गांधी से मुलाक़ात के बाद जितिन प्रसाद ने कहा कि ‘उनके चुनाव लड़ने को लेकर जो कुछ भी कहा जा रहा है वह सब अटकलें हैं। केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक के बाद पार्टी उम्‍मीदवारों के नाम जारी करेगी। मुझे नहीं पता कि किसी तरह का कोई मतभेद है।’

सूत्रों की माने तो मुलाकात में जितिन के सामने दो ऑप्शन रखे गए हैं। पहला – जितिन लखनऊ से चुनाव लड़े। राजनाथ सिंह के ख़िलाफ़ हारने की स्थिति में पार्टी ने उन्हें राज्यसभा देने का भरोसा दिया है। दूसरा- जितिन धौरहरा से चुनाव लड़े।

सूत्रों के अनुसार जितिन प्रसाद धौरहरा से चुनाव लड़ना नहीं चाहते क्योंकि उनके आसपास की दो सीटें लखीमपुर खीरी और सीतापुर दोनों जगह से कांग्रेस मुस्लिम उम्मीदवार उतार रही है। जितिन को पता चला है कि महागठबंधन की तरफ से धौरहरा में मुस्लिम उम्मीदवार को टिकट दिया जाएगा जिसकी वजह से इलाके में हिंदू बनाम मुस्लिम ध्रुवीकरण हो जाएगा और ऐसे हालात में हारने का खतरा ज़्यादा है। इसलिए वह कांग्रेस नेतृत्व पर दबाव बना रहे थे कि सीतापुर या लखीमपुर खीरी में से किसी भी एक सीट से मुस्लिम उम्मीदवार हटाया जाए लेकिन पार्टी इस बात से सहमत नहीं है।

सूत्रों के हवाले से पार्टी का मानना है कि मुस्लिम उम्मीदवार हटाने से लोगों में गलत संदेश जाएगा। ऐसे में जितिन के सामने दो ही ऑप्शन है या तो वह लखनऊ से चुनाव लड़े और हारने की स्थिति में राज्यसभा सीट ले लें या फिर धौरहरा से चुनाव लड़े। कांग्रेस नेतृत्व का मानना है कि जितिन लखनऊ से चुनाव लड़ने को तैयार हो जाएंगे। अब देखना ये है कि जितिन दोनों विकल्पों में से क्या चुनते हैं।

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |