यहाँ सर्च करे

Diwali के मौके पर इन रूपों में आपके घर आती हैं माँ लक्ष्मी, जानिए


आरोग्य दिवाली पर लक्ष्मी जी अपने आठ स्वरूपों के साथ आती हैं। महालक्ष्मी (कन्या), धन लक्ष्मी ( धन, वैभव, निवेश, अर्थव्यवस्था), धान्य लक्ष्मी (अन्न), गज लक्ष्मी (पशु और प्राकृतिक धन), सनातना लक्ष्मी(सौभाग्य, स्वास्थ्य, आयु और समृद्धि), वीरा लक्ष्मी (वीरोचित लक्ष्मी), विजया लक्ष्मी (विजय), विद्या लक्ष्मी (विद्या, ज्ञान, कला, विज्ञान)। इन 8 स्वरूपों का एकाकार पर्व ही दीपावली महापर्व के रूप में ख्यात हुआ। यह प्रकाश पर्व पुष्टि, प्रगति और परोपकार का प्रतीक है।

यही नहीं, दीप पर्व वित्तीय समायोजन, वित्तीय संयोजन और वित्तीय अनुशासन का भी पर्व है। धन है लेकिन खर्च करने का विवेक और बुद्धि कौशल नहीं तो बेकार है। जो भविष्य का ध्यान नहीं रखे, वह धन भी बेकार है। दीपावली त्यौहार के माध्यम से देवी हर रास्ते पर यही समझाती हैं कि मेरा स्वभाव चंचल है। इसलिए, सकारात्मक दृष्टि से मेरा उपयोग करें। अपने अंदर सकारात्मक प्रकाश करें। अपने अंत: बाह्य दोनों रूपों में प्रकाश करें।


न्यूज़१ इंडिया की खबरों को पाने के लिए ALLOW बटन पर क्लिक करे|