मेरठ में जिलापूर्ति अधिकारी के खिलाफ कर्मचारियों ने खोला मोर्चा, कामकाज ठप्प

उत्तर प्रदेश के मेरठ से एक ऐसा मामला सामने आया है जिसमें जिलापूर्ति अधिकारी विकास गौतम  के खिलाफ खाद्य रसद विभाग के कर्मचारियों ने मोर्चा खोल लिया है। दरअसल, जिलापूर्ति अधिकारी के खिलाफ कर्मचारियों ने भ्रष्टाचार का आरोप लगाया है और इस वजह से कर्मचारियों ने खाद्य रसद आयुक्त आलोक कुमार को पत्र लिखकर इसके बारे में जानकारी दी है। कर्मचारियों ने DSO के कार्यप्रणाली की वजह से भी कामकाज छोड़ दिया है और इस वजह से मेरठ में सार्वजनिक वितरण प्रणाली का कामकाज पूरी तरह से ठप्प हो गया है। इतना ही नहीं मेरठ के DSO की शिकायत यूपी सीएम कार्यालय को भी भेजी गई है। DSO की कार्यप्रणाली की वजह से पूर्ति निरक्षकों समेत खाद्य विपणन अधिकारियों ने भी कामकाज छोड़ दिया है।

 

मेरठ के DSO पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे हैं और इस वजह से कर्मचारियों ने सरकारी कामकाज पूरी तरह से छोड़ दिया है। कर्मचारियों ने आरोप लगाया है कि राशन कार्डों के सत्यापन और खाद्य वितरण में गड़बड़ी करने का दबाव बनाया जा रहा था। लक्ष्मीकांत बाजपेयी ने भी PDS सिस्टम में हो रहे घोटाले के बारे में सीएम योगी से शिकायत की थी। मेरठ के खाद्यान के चोरी मामले में SIT चाल रही है। साथ ही जानकारी मिली है कि घोटालेबाज अफसर पर आयुक्त कार्यालय के कुछ अफसर मेहरबान हैं।

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |