Type to search

नयी खबर
मनोहर पर्रिकर की वो आखिरी इच्छा जो पूरी नहीं हो सकी…प्रियंका गांधी ने बताया- ‘इस वजह से उनको घर से निकलकर राजनीति में आना पड़ा’मायावती और अखिलेश के ‘वार’ के बाद प्रियंका गांधी की दो टूक…जब पर्रिकर के एक फैसले ने बचाए थे देश के 49,300 करोड़ रुपयेमायावती के बाद अब अखिलेश यादव का कांग्रेस पर ‘ट्वीट वार’प्रियंका गांधी का पीएम मोदी पर तीखा हमला, चौकीदार तो अमीरों के होते हैंसपा-बसपा को कांग्रेस के ‘रिटर्न गिफ्ट’ पर मायावती की खरी-खरीकेंद्रीय मंत्री महेश शर्मा ने प्रियंका गांधी को लेकर दिया विवादित बयान,देखें वीडियोतो इस वजह से अखिलेश ने अपर्णा को नहीं उतारा चुनावी मैदान में…गांधी खानदान में इंदिरा गांधी के बाद प्रियंका गांधी पहुंची यहाँ, जानेजानें कांग्रेस के सपा-बसपा-RLD गठबंधन के लिए 7 सीट छोड़ने के क्या हैं मायने!मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद कांग्रेस ने सरकार बनाने के लिए ठोका दावा
खबर देश

मुंबई : फुटओवर ब्रिज का सीमेंट स्लैब भरभरा कर गिरा

Share
मुंबई : फुटओवर ब्रिज का सीमेंट स्लैब भरभरा कर गिरा

दक्षिण मुंबई का सबसे व्यस्त माना जाने वाला रेलवे स्टेशन छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस (सीएसएमटी) से डीएन रोड के दूसरी ओर ले जाने वाले फुटओवर ब्रिज का आधा सीमेंट स्लैब 14 मार्च, शाम 7.30 बजे भरभरा कर गिर गया। इस हादसे में 6 लोगों की मौत हो गई है, 33 लोग घायल बताये जा रहें हैं।

ये हादसा शाम के वक़्त हुआ, उस वक़्त पुल पर आने जाने वालों की तादाद ज़्यादा होती है और पुल के नीचे से भी काफी लोग आ जा रहे थे। भारी ट्रैफिक को देखते हुए फुटओवर ब्रिज का निर्माण करा जाता है जिससे लोग सड़क के ऊपर से एक तरफ से दूसरी तरफ जा सकें। साथ ही सड़क पर चलने वालों वाहनों का रास्ता भी न रुके। कह सकते हैं कि वक़्त बचाने के लिए इस तरह के ब्रिज बनाये जातें हैं। लेकिन ये नहीं सोचा जाता कि वक़्त तो शायद बच भी जाये मगर ज़िन्दगी ही न बचे तो क्या होगा।

मुंबई : फुटओवर ब्रिज का सीमेंट स्लैब भरभरा कर गिरा

घायलों को निकट के सेंट जॉर्ज एवं जीटी अस्पताल पहुंचाया गया। मरने वाले छह लोगों में तीन महिलाएं हैं। काफी लोग घायल भी हुए हैं। लेकिन वो भगवान का शुक्र अदा कर रहे हैं कि वो बच गए। जो लोग ब्रिज गिरने से कुछ वक़्त पहले उस ब्रिज से गुज़रें होंगे, कहीं न कहीं उन्हें अपने भाग्यशाली होने का आभास ज़रूर हुआ होगा। जिस वक़्त ये हादसा हुआ तब पास की सड़क पर लाल सिग्नल था, अन्यथा कितने लोग हादसे का शिकार होते ये कहना मुश्किल होता।

ये ब्रिज डीएन रोड के ऊपर से गुज़रता है और छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस को आजाद मैदान पुलिस स्टेशन की ओर जाने वाली गली से भी जोड़ता है। इसे ‘हिमालय ब्रिज’ के नाम से भी जाना जाता है।

महाराष्ट्र सरकार के मंत्री विनोद तावड़े ने कहा कि ब्रिज का एक हिस्सा टूटकर गिर गया है। रेलवे और बीएमसी इसकी जांच करेंगे। ब्रिज ठीक हालत में नहीं था, इसमें कुछ मरम्मत की जरूरत थी। काम चल रहा था, ऐसे में लोगों को इस रास्ते से आने-जाने की छूट क्यों दी गई इसकी भी जांच की जाएगी।

ऐसा नहीं है कि इस तरह का हादसा पहली बार हुआ हो। पहले भी मुंबई में इस तरह के हादसे होते रहें हैं मगर इन सब के बावजूद सरकार कोई ठोस क़दम नहीं उठती है सब अपनी अपनी ज़िम्मेदारी से मुंह मोड़ लेते हैं और मासूम लोगों को अपनी ज़िन्दगी से हाथ गवाना पड़ता है। अगर वक़्त रहते इन ब्रिज की देख रेख हो जाये तो बड़े हादसे होने से टल सकते हैं।

Tags:

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

%d bloggers like this: