नवरात्रि के प्रथम दिन की गई मां शैलपुत्री की उपासना

चैत्र पक्ष के पहले नवरात्रे का आगाज़ आज से हो गया, मां शैलपुत्री के दर्शन के लिए मंदिरों में लंबी-लंबी कतारें लगने लगी थी, सुबह से ही भक्तगण मां की पूजा अर्चना करने के लिए लंबी-लंबी कतारों में खड़े हो गए थे।

पौड़ी के ज्वाल्पा मां मंदिर, मां दुर्गा मंदिर, मां वैष्णो मंदिर मे सुबह से ही भक्त मां के दर्शनों के लिए खड़े थे, नवरात्रि के प्रथम दिन मां शैलपुत्री का महत्व और शक्तियां अनंत मानी जाती है।

नवरात्रा पूजन में प्रथम दिन शैलपुत्री मां की पूजा और उपासना की जाती है, इस दिन भक्त मां की उपासना में मन को मूलाधार चक्र में स्थित कर साधना करते हैं, मान्यता है कि पर्वतराज हिमालय के यहां पुत्री के रूप में उत्पन्न होने के कारण इनका नाम शैलपुत्री पड़ा। माना जाता है कि इनका विवाह भगवान शंकर जी के साथ हुआ था, पार्वती और हेमवती भी इन्हीं के अन्य नाम माने जाते हैं, नवरात्रि के प्रथम दिन मान्यता है जो भी मां की पूर्व पूजा आराधना सच्चे मन से करता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है।

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |