राहुल का वादा, सत्ता में आए तो मार्च 2020 तक भरेंगे 22 लाख रिक्तियां

Lok Sabha Election 2019 के लिए हर पार्टी जनता को खुश करने में लगी है कुछ ऐसा ही राहुल गांधी ने भी किया है। इस बार उन्होंने जनता से एक नया वादा किया है। राहुल के नए वादे के अनुसार अगर वो सत्ता में आते हैं तो 31 मार्च 2020 तक 22 लाख रिक्तियां भरेंगे।

चुनाव का वक़्त हो और नेता लोग जनता की परवाह न करें, ऐसा कैसे हो सकता है शायद इसीलिए हर पार्टी जनता के सामने नए नए वादे लेकर आती है। जिनके हिसाब से ही जनता उस पार्टी को मौक़ा देती है। राहुल गांधी ने जनता से फिर एक वादा किया है 22 लाख नौकरियां देने का वादा। ये कोई छोटी मोटी संख्या नहीं है। ऐसे में जाहिर है बेरोज़गार युवा कहीं न कहीं राहुल के इस वादे से ज़रूर खुश हो सकतें हैं।

ऐसा नहीं है कि इलेक्शन के वक़्त ही राहुल गांधी को जनता के रोज़गार की फ़िक्र हुई है बता दें कि कांग्रेस नौकरी के कथित रूप से घट रहे अवसर और रोजगार सृजन की कमी को लेकर लगातार सरकार की आलोचना करती रही है।

लेकिन Lok Sabha Election 2019 से ठीक पहले कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने 31मार्च को कहा कि करीब 22 लाख सरकारी नौकरी की रिक्तियां हैं, जिन्हें उनकी पार्टी के सत्ता में आने पर साल 2020 (31 मार्च) तक भरा जाएगा। एक ट्वीट के ज़रिये राहुल ने कहा ‘आज सरकार में 22 लाख नौकरी की रिक्तियां हैं। हम 31 मार्च 2020 तक इन रिक्तियों को भरेंगे।’ उन्होंने ये भी कहा कि स्वास्थ्य, शिक्षा आदि के लिए केंद्र द्वारा प्रत्येक राज्य सरकार को धनराशि हस्तांतरण को भरे जाने वाले इन रिक्त पदों से जोड़ा जाएगा।’

कांग्रेस पार्टी के अलावा अन्य विपक्षी दल भी रोजगार के मुद्दे को लेकर बीजेपी और मोदी सरकार पर निशान साधते रहे हैं। राहुल गांधी ने केंद्र की मोदी सरकार पर आरोप लगाया था कि कर्ज में डूबे किसानों और बेरोजगार युवाओं को राहत देने में यह सरकार विफल रही है। बता दें कि फरवरी में राहुल गांधी ने पटना के गांधी मैदान में कांग्रेस की जन आकांक्षा रैली को संबोधित करते हुए नोटबंदी को दुनिया का सबसे बडा घोटाला करार दिया था, साथ ही उन्होंने आरोप भी लगाया था कि बीजेपी की सरकार ने उद्योगपतियों का करोडों रूपये का क़र्ज़ माफ किया लेकिन किसानों का एक रूपये का क़र्ज़  भी माफ नहीं किया।

राहुल ने पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों का जिक्र करते हुए कहा कि हमने चुनाव के समय किसानों का कर्ज माफ करने का वादा किया था जिसे मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ और राजस्थान में सत्ता में आने पर पूरा भी किया। उन्होंने पेश बजट में किसानों के लिए की गई घोषणा का जिक्र करते हुए कहा कि भाजपा नेताओं ने उसे ऐतिहासिक निर्णय बताया।

अब राहुल गांधी का ये नया वादा कितना असरदार साबित होगा ये देखना बाक़ी है। इसमें कोई शक नहीं है कि भूखे को रोटी और बेरोज़गार को नौकरी से ज़्यादा किसी और चीज़ की ज़रुरत नहीं होती है। देश की जनता अब किस चीज़ को चुनेगी ये तो चुनावी परिणाम आने के बाद ही पता चलेगा।

(इनपुट भाषा से)

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |