Type to search

नयी खबर
मनोहर पर्रिकर की वो आखिरी इच्छा जो पूरी नहीं हो सकी…प्रियंका गांधी ने बताया- ‘इस वजह से उनको घर से निकलकर राजनीति में आना पड़ा’मायावती और अखिलेश के ‘वार’ के बाद प्रियंका गांधी की दो टूक…जब पर्रिकर के एक फैसले ने बचाए थे देश के 49,300 करोड़ रुपयेमायावती के बाद अब अखिलेश यादव का कांग्रेस पर ‘ट्वीट वार’प्रियंका गांधी का पीएम मोदी पर तीखा हमला, चौकीदार तो अमीरों के होते हैंसपा-बसपा को कांग्रेस के ‘रिटर्न गिफ्ट’ पर मायावती की खरी-खरीकेंद्रीय मंत्री महेश शर्मा ने प्रियंका गांधी को लेकर दिया विवादित बयान,देखें वीडियोतो इस वजह से अखिलेश ने अपर्णा को नहीं उतारा चुनावी मैदान में…गांधी खानदान में इंदिरा गांधी के बाद प्रियंका गांधी पहुंची यहाँ, जानेजानें कांग्रेस के सपा-बसपा-RLD गठबंधन के लिए 7 सीट छोड़ने के क्या हैं मायने!मनोहर पर्रिकर के निधन के बाद कांग्रेस ने सरकार बनाने के लिए ठोका दावा
रोचक तथ्य

जानें ‘ब्लेड’ में क्यों होते हैं होल और इसके अनोखे डिजाइन का मतलब

Share
जानें 'ब्लेड' में क्यों होते हैं होल और इसके अनोखे डिजाइन का मतलब

स्टेनलेस स्टील ब्लेड का डिजाइन आपने भी देखा ही होगा। इन ब्लेड्स के बीच में विभिन्न आकृति के अनेक होल होते हैं। क्या आपने कभी सोचा है कि क्या ये होल ऐसे ही होते हैं या फिर इसके पीछे कोई वजह है। ब्लेड के इन डिजाइन के पीछे की वजह क्या है ये हम आपको बताएं इससे पहले आपका ये जानना बेहद जरूरी है कि इस दुनिया में कोई चीज बिना अर्थ के नहीं होता है और खासकर जब तकनीक की मदद से किसी चीज का निर्माण किया जाता है तो उसके हर चीज के पीछे एक खास मकसद होता है।

ब्लेड का सबसे अधिक इस्तेमाल शेव करने (दाढ़ी बनाने) में किया जाता है। लेकिन आज के समय में अधिकतर लोग जिस रेजर से दाढ़ी बनाते हैं वो कुछ साल पहले तक चलन में नहीं था। पहले के वक्त में जो रेजर चलन में था उसमें पूरा ब्लेड एक साथ फिट होता था। इस ब्लेड के उन रेजर्स में फिट बैठाने के लिए इन खास डिजाइन की जरूरत थी। इन ब्लेड्स के होल्स को उन रेजर्स के प्वाइंट में फिट बैठाकर उसे कसा जाता था। इसके बाद रेजर दाढ़ी बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता था।

इन रेजर्स की मदद से लोग एक ब्लेड से कम से कम दो दाढ़ी बनाते थे। चूंकि ब्लेड को बिना तोड़े रेजर में फिट किया जाता था इसके तहत ब्लेड का हिस्सा रेजर में दोनों तरफ से खुला रहता था। ऐसे में ब्लेड के एक भाग से लोग एक बार दाढ़ी बनाते थे जबकि दूसरे हिस्से को दूसरे दिन के लिए बचाकर रखा जाता है। ये रेजर अब भी चलन में हैं, लेकिन इसका इस्तेमाल धीरे-धीरे कम हो रहा है।

Tags:

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

नोट: अगर आप के पास इस खबर से जुडी कोई भी वीडियो है तो आप अपने नाम के साथ इस नंबर पर WhatsApp (8766336515) करे |

%d bloggers like this: