Type to search

खबर राजनीति

जब बिना निमंत्रण के यहाँ पहुंचे मुलायम सिंह यादव और सब रह गए हैरान

अलग पार्टी बनाने के बाद पहली बार सियासी ताकत दिखाने के लिए राजधानी लखनऊ के रमाबाई आंबेडकर मैदान में जनाक्रोश रैली कर रहे शिवपाल सिंह यादव के मंच पर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री व उनके बड़े भाई मुलायम सिंह यादव भी पहुंचे। मुलायम के पहुंचते ही शिवपाल समर्थक जोश से भर गए। वहीं अखिलेश यादव के समर्थकों की भी बेचैनी बढ़ गयी।



शिवपाल यादव ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा खेती-किसान बर्बाद,युवा-नौजवान बेरोज़गार,नोटबंदी और GST के चलते व्यापारी को बहुत नुकसान हो रहा है,देश में गाय के नाम पर मुसलमानों को मारा जा रहा है,पाकिस्तान सैनिकों को शहीद कर रहा है,चीन भारत की ज़मीन पर क़ब्ज़ा कर रहा है देश बर्बाद होने की कगार पर है।

साथ ही शिवपाल यादव ने अपनी पार्टी बनाने का कारण बताते हुए कहा नेताजी यहां बैठै हैं वो जानते है मैंने तो कभी कुछ नहीं मांगा। ना अध्यक्ष पद मांगा,ना मंत्री पद मांगा लेकिन उसके बावजूद मेरा अपमान किया गया। मैंने नेता जी की अनुमति से पार्टी बनाई तमाम समाजवादी नेताओं से मिला उनसे बात की तब पार्टी बनाई।

अयोध्या मुद्दे पर बोले शिवपाल यादव:




देश की सांप्रदायिक ताक़तें गो हत्या, राम मंदिर और बाबरी मस्जिद इत्यादि मुद्दों पर देश को बर्बाद करना चाहती हैं। ऐसी ताक़तों का मुक़ाबला करने की ज़रूरत है। बाबरी मस्जिद का मामला सुप्रीम कोर्ट में है। फिर भी राम मंदिर के मुद्दे पर अयोध्या में कार्यक्रम किया गया। अयोध्या में फेल हुये तो बुलंदशहर में गौ हत्या के नाम पर पुलिस इंस्पेक्टर की हत्या कर माहौल ख़राब करने की कोशिश की।कुछ सांप्रदायिक ताक़तें देश और प्रदेश का माहौल ख़राब करना चाहती हैं। विवादित ज़मीन पर मंदिर नहीं बनाना चाहिये। विवादित ज़मीन से हटकर सरयू के किनारे मंदिर बनाना चाहिये।सरयू के किनारे मंदिर बनेगा तो हम भी मंदिर बनाने में सहयोग करेंगे।

आदित्य यादव का बयान:

आज तक बहुत लोगों ने समाजवाद के लिए काम किया। हम हिन्दू-मुस्लिम की बात नही करेंगे।हम रोज़गार के लिए बात करेंगे। हम अपनी सुरक्षा के लिए बात करेंगे। अगर वो धर्म की बात करेंगे तो हम प्रगतिशील को ही अपना धर्म बनायेंगे। उसको आगे बढ़ाएंगे।आज लोग शहरों के नाम बदल रहे हैं।मैं कहता हूं कि अगर विकास करना है तो नए शहर बनाइये

अपर्णा यादव ने बताया शेर:

चाचा शिवपाल को मुलायम की छोटी बहु अपर्णा ने बताया शेर। उन्होंने कहा शेर को छेड़ना नहीं चाहिये। वरना पूरे जंगल पर उसका क़ब्ज़ा हो जाता है। आज का जनसैलाब इस बात का सबूत है कि शेर को चोट नहीं देनी चाहिये वरना नतीजा सबके सामने है। आज बदलाव का समय है कब तक गिनी-चुनी पार्टी को मौक़ा देंगे। 2019 में नए रूप में आगे आइये और शिवपाल जी और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया की मदद कीजिये।मैं सबसे छोटी हूं घर में लेकिन तन-मन-धन से शिवपाल यादव जी के साथ हूं।

Tags:

You Might also Like

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *