Type to search

खबर राजनीति

अखिलेश यादव के इस बड़े बयान से ‘महागठबंधन’ को लग सकता है बड़ा झटका, जानें

लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर बन रही विपक्षी एकता पर एक बार फिर ग्रहण लगता दिख रहा है। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने DMK प्रमुख एमके स्टालिन के बयान पर अपनी सहमति नहीं दी है। अखिलेश यादव ने कहा कि यह जरूरी नहीं है कि स्टालिन की राय पर गठबंधन के सभी सदस्य एकमत हों। स्टालिन ने 2019 के लोकसभा चुनाव में पीएम पद के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का नाम प्रस्तावित किया है। इसके बाद से विपक्षी दलों के सुर बदल गए हैं। अब अखिलेश यादव भी इससे सहमत नहीं दिख रहे हैं। उन्होंने कहा कि जनता अब बीजेपी से नाराज है। इसी कारण कांग्रेस को तीन राज्यों में सफलता मिली है। अभी महागठबंधन का खाका तैयार किया जाना है।






अखिलेश ने कहा कि तेलंगाना के सीएम केसीआर, ममता बनर्जी और शरद पवार ने गठबंधन बनाने के लिए सभी नेताओं को एक साथ लाने का प्रयास किया था। इस प्रयास में अगर कोई अपनी राय दे रहा है, तो जरूरी नहीं है कि गठबंधन की राय समान हो। पीएम पद के नाम पर किसी का भी नाम गठबंधन के सभी नेता तय करें तो बेहतर है।

बता दें, स्टालिन ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को देश का अगला प्रधानमंत्री बनाने का संकल्प जताते हुए रविवार को कहा था कि गांधी में केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार को परास्त करने की क्षमता है। उन्होंने कहा था,‘2018 में थलैवार कलईग्नार की प्रतिमा के अनावरण के अवसर मैं प्रस्ताव रखता हूं कि हम दिल्ली में नया प्रधानमंत्री बनाएंगे। हम नया भारत बनाएंगे। मैं तमिलनाडु की ओर से राहुल गांधी की उम्मीदवारी की पेशकश करता हूं।’

Tags:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *