यहाँ सर्च करे

Tags:

केंद्र सरकार ने आम आदमी को दिया झटका, रोजमर्रा के ये 19 आइटम्स हुए महंगे


केंद्र की मोदी सरकार ने 19 प्रोडक्ट्स पर इम्पोर्ट ड्यूटी बढ़ा दी हैं।

केंद्र की मोदी सरकार ने जेट ईंधन, AC, फ्रिज सहित कुल 19 प्रोडक्ट्स पर इम्पोर्ट ड्यूटी बढ़ा दी हैं। सरकार ने गैर जरूरी वस्तुओं का निर्यात घटाने के लिए यह कदम उठाया है।

वित्त मंत्रालय ने बयान में कहा कि बीते वित्त वर्ष में इन उत्पादों का कुल आयात बिल 86,000 करोड़ रुपये रहा था। जिन अन्य वस्तुओं पर इम्पोर्ट ड्यूटी बढ़ाया गया है उनमें वॉशिंग मशीन, स्पीकर, रेडियल कार टायर, गहने, किचन, टेबलवेयर, कुछ प्लास्टिक का सामान तथा सूटकेस शामिल हैं।

मंत्रालय ने कहा, ‘केंद्र सरकार ने मूल सीमा शुल्क बढ़ाकर शुल्क उपाय किए हैं। इसके पीछे उद्देश्य कुछ आयातित वस्तुओं का आयात घटाना है। इन बदलावों से चालू खाते के घाटे (CAD) को सीमित रखने में मदद मिलेगी।’

सरकार ने AC, फ्रिज और वॉशिंग मशीन (10 किलो से कम) पर इम्पोर्ट ड्यूटी दोगुना कर 20 फिसदी कर दिया है। इम्पोर्ट ड्यूटी में ये बदलाव 26-27 सितंबर की आधी रात से लागू होंगे।




इसी तरह कम्प्रेसर, स्पीकर और फुटवियर पर इम्पोर्ट ड्यूटी बढ़ाकर क्रमश: 10, 15 और 25 फिसदी किया गया है। रेडियल कार टायर पर इम्पोर्ट ड्यूटी 10 से 15 फिसदी किया गया है। तराशे और पालिश किए गए, सेमी प्रोसेस्ड और प्रयोगशाला में बनाए गए और रंगीन रत्नों पर इम्पोर्ट ड्यूटी 5 से बढ़ाकर 7.5 फिसदी किया गया है।

इसी तरह जूलरी, सुनार, चांदी बर्तन बनाने वालों के सामान पर इम्पोर्ट ड्यूटी 15 से बढ़ाकर 20 फिसदी कर दिया गया है. वहीं बाथरूम प्रोडक्ट्स, पैकिंग सामग्री, मेज़ का सामान, रसोई के सामान, ऑफिस स्टेशनरी, सजावट वाली शीट, मनका, चूड़ियां, ट्रंक, सूटकेस और यात्रा बैग पर अब 10 के बजाय 15 फिसदी का सीमा शुल्क लगेगा। इसके अलावा सरकार ने विमान ईंधन (ATF) पर 5 फिसदी इम्पोर्ट ड्यूटी लगाने की घोषणा की है। अभी तक इस पर शुल्क नहीं लगता था।

बता दें चालू खाते के घाटे पर अंकुश और पूंजी के बाहर जाने से रोकने के लिए ये उपाय किए गए हैं।

क्या होता है CAD:

विदेशी मुद्रा के अंत: प्रवाह और बाह्य प्रवाह का अंतर CAD कहलाता है।


Tags::

न्यूज़१ इंडिया की खबरों को पाने के लिए ALLOW बटन पर क्लिक करे|