यहाँ सर्च करे

उत्तरप्रदेश: CM योगी के बाद अखिलेश के निशाने पर आए राज्यपाल


उत्तरप्रदेश में आए दिन हो रहे अपराध पर सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने मोर्चा खोल दिया है। ऐसा लग रहा है जैसे अखिलेश ने सूबे में हो रहे सभी अपराधों की लिस्ट बना रखी हो, जी हां ऐसा इसलिए कह रहे है क्योंकि अखिलेश ने हाल ही में हुए राज्य में कुछ बड़े अपराधों पर बात करते भाजपा पर सिधा निशाना साधा है। यहां तक कि अखिलेश ने भाजपा राज को लुटेरा राज बता दिया है।

अखिलेश ने निशाना साधते हुए कहा कि “दीवाली से पहले यूपी में खून की होली खेली जा रही है, प्रदेशवासियों को न तो पीएम सुरक्षा दे पा रहे हैं और न ही सीएम”. अखिलेश ने ना सिर्फ भाजपा को घेरा बल्कि सबसे बड़े सूबे के राज्यपाल पर भी निशाना साधा।

अखिलेश अक्सर राज्य में बड़ते अपराध पर मुख्यमंत्री योगी को घेरते नजर आते है लेकिन इस बार उन्होंने सबसे बड़े सूबे के राज्यपाल पर ही सवाल खड़े कर दिए हैं। अखिलेश ने कहा कि “दिन प्रतिदिन बिगड़ती कानून व्यवस्था पर राज्यपाल ने भी मौन साध रखा है, उन्हें संवैधानिक दायित्व का निर्वाह करते हुए बिगड़ती कानून व्यवस्था पर राष्ट्रपति को अपनी रिपोर्ट भेजनी चाहिए”.




अखिलेश ने कहा कि मुख्यमंत्री योगी चाहे जितने अल्टीमेटम दें, लेकिन राज्य में इसका कोई असर पड़ते नहीं दिख रहा हैं। कोई प्रशासनिक अधिकारी किसी भी तरह से अपराध को कम करने में सक्षम नहीं दिखाई पड़ रहा।

पूर्व मुख्यमंत्री अपनी लिस्ट खोलते हुए सूबे के अपराधों पर बात करने लगे, उन्होंने भाजपा शासन पर निशाना साधते हुए कहा कि प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी के एक मॉल में दो लोगों की गोली मार कर हत्या कर दी गई। इसी तरह, उपमुख्यमंत्री व स्वास्थ्य मंत्री के क्षेत्र प्रयागराज में छात्रावास के भीतर सुमित शुक्ला की हत्या हो गई।

सपा अध्यक्ष ने और अपराधों पर बात करते हुए रायबरेली के हीरा व्यापारी लोकेश दुबे की हत्या और चोरी का भी जिर्क किया। अखिलेश ने सरकार पर सवाल खड़े किए और कहा कि राजधानी लखनऊ में ही घटी कई संगीन वारदातों का अब तक खुलासा नहीं हो पाया है। उन्होंने कहा कि खुद लखनऊ के कप्तान के बंगले से 10 लाख की चोरी हुई मगर उसका भी अब तक आठ साल बीत जाने के बाद भी कोई खुलासा नहीं हुआ है।


Tags::

You Might also Like

न्यूज़१ इंडिया की खबरों को पाने के लिए ALLOW बटन पर क्लिक करे|