देवभूमि में विधवा महिला की कीमत ‘डेढ़ लाख रुपए’, पीड़िता ने लगाए पुलिस पर गंभीर आरोप

उत्तराखंड जुर्म

हरिद्वार– देवभूमि कहे जाने वाले उत्तराखंड और खासकर देवो की भूमि हरिद्वार में एक विधवा महिला को शादी के नाम पर डेढ़ लाख रुपये में बेचने का मामला सामने आया है। जब महिला के एक मित्र ने पुलिस के सामने मामले में न्याय की गुहार लगाई तो उन्होंने भी वापस विधवा महिला को बेचने वाली महिला को ही सौंप दिया। हरिद्वार के सिडकुल एरिया में अपने पति की मृत्यु के बाद अपना पेट भरने के लिए इंडोएशियन कंपनी में काम करने वाली पीड़िता रूपा को उसके साथ काम करने वाली सारिका ने कहा कि वह उसकी शादी करवाएगी। जब रूपा शादी करके अपने पति के घर पहुंची तो उसे पता चला कि वह इंस्पेक्टर नहीं बल्कि होमगार्ड है साथ ही उसे यह भी पता चला कि शादी के नाम पर उसको डेढ़ लाख रुपये में बेचा गया है।

‘पुलिस से मांगी मदद तो वापस आरोपियों के पास भेज दिया’

इस बारे में पता चलने के बाद रूपा के होश उड़ गए। विरोध करने पर उसका पति और देवर दोनों मिलकर उसे प्रताड़ित करने लगे। तब जैसे-तैसे महिला हरियाणा से भाग कर हरिद्वार आ गई और अपनी आप बीती सिडकुल थाने में सुनाई। बस में बैठने के बाद पीड़ित महिला ने अपने एक परिचित अधिवक्ता को बताया तो अधिवक्ता ने रुड़की में भाजपा नेता राखी चंद्रा को सारी बात बताई तो उन्होंने रुड़की बस अड्डे पर पीड़ित महिला को बस से उतार लिया और उसे इंसाफ दिलाने के लिए मीडिया के समक्ष उसकी आपबीती सुनाई।

बीजेपी नेता राखी चंद्रा ने पुलिस पर लगाए आरोप

राखी चंद्रा ने बताया कि रूपा के साथ एक बड़ा धोखा हुआ है और कहीं न कहीं पुलिस भी इस मामले को दबाने की कोशिश कर रही है। उन्होंने बताया कि वह कल इस मामले में हरिद्वार एसएसपी से मुलाकात कर उन पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई करने की मांग करेगी जिन पुलिसकर्मियों ने महिला को डरा धमकाकर आरोपियों के साथ वापिस भेजने का काम किया है। वहीं अधिवक्ता सुनील पुंडीर का कहना है कि मित्र पुलिस की भूमिका सही नहीं थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.