पासपोर्ट बनवाने के लिए आपको इन बातों का रखना होगा ध्यान, विदेश मंत्रालय ने बदले नियम

Tanvi-Anas Passport मामले में विदेश मंत्रालय का U-Turn

लखनऊ- तन्वी-अनस पासपोर्ट मामले ने अब यू-टर्न लिया है। विदेश मंत्रालय ने अब फैसला किया है कि पासपोर्ट बनवाने के लिए पहले सत्यापन के लिए क्रायम रिकॉर्ड, नागरिकता को अहम बनाया जाएगा। इसी आधार पर तन्वी-अनस का पासपोर्ट बनाया गया है। अब पासपोर्ट सत्यापन के लिए विदेश मंत्रालय ने नए निर्देश जारी किए है। अब सवाल यह उठता है कि क्या ये नियम तन्वी-अनस के पासपोर्ट के लिए बदले गए हैं, अगर नहीं तो ये नियम मंत्रालय ने पहले क्यों नहीं बनाए। इस नए कानून के अनुसार अब सत्यापन के वर्तमान पते पर मौजूद रहना जरुरी हो गया है।

 

विदेश मंत्रालय ने दी सफाई

तन्वी सेठ पासपोर्ट मामले में सफाई देने कुछ दिनों पहले खुद विदेश मंत्रालय सामने आया था। मंत्रालय के एक अधिकारी ने सफाई देते हुए कहा था कि तन्वी और उनके पति के पासपोर्ट में कोई कमी नहीं है। उन दोनों के पासपोर्ट सही है। इस अधिकारी का कहना था कि उन्होंने तन्वी और अनस के पासपोर्ट और सभी दस्तावेजों की दुबारा जांच करवाई है जिसमें उन्हें कोई कमी नहीं मिली। पिछले महीने ही मंत्रालय ने तन्वी-अनस को पासपोर्ट बनाकर मुहिया करा दिया था।

यह है पूरा मामला

मामला यूपी के लखनऊ का है। 20 जून को एक महिला पासपोर्ट बनवाने के लिए पासपोर्ट ऑफिस गई थी पर वहां एक अधिकारी ने पासपोर्ट बनाने के लिए साफ मना कर दिया। महिला ने एक अधिकारी पर आरोप लगाते हुए कहा था कि उसने सिर्फ इसलिए पासपोर्ट बनाने से मना कर दिया क्योंकि मैंने एक मुसलमान लड़के के साथ शादी की है। महिला का कहना है कि जब उसने उनसे पासपोर्ट बनाने के लिए कहा तो वो अधिकारी उसकी शादी के बारे में पूछते हुए मजाक बनाने लगे और उसे ऑफिस के बाहर निकाल दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *